Home

22 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद यह वीडियो- To watch this video go to video section.

22 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद यह वीडियो : 10 मिंट की इस संक्षिप्त वीडियो में युगतीर्थ शांतिकुंज हरिद्वार के वर्तमान (2022)व्यवस्थापक आदरणीय महेंद्र शर्मा जी परमपूज्य गुरुदेव की 1984 की एक सप्ताह की हिमालय यात्रा का विवरण दे रहे हैं। हमारे दर्शक इस यात्रा का विवरण अखंड ज्योति 1985 के जनवरी अंक में भी पढ़ […]

अपने आत्मीयजनों से चर्चा 

21 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – अपने आत्मीयजनों से चर्चा  आज ज्ञानप्रसाद के लेख को स्थगित करके इच्छा हुई कि अपने आत्मीयजनों से सूक्ष्म तरंगों से जुड़ने का प्रयास किया जाये। कुछ एक आत्मीयजनों  को छोड़ कर जिनके साथ हमारे फ़ोन से सम्बन्ध हैं, अधिकतर को हमने देखा तक नहीं है।  जब कमेंट देखते हैं […]

आत्मा और परमात्मा से सच्चे प्रेम की तीन धाराएं 

20 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद -आत्मा और परमात्मा से सच्चे प्रेम की तीन धाराएं  परमपूज्य गुरुदेव की मथुरा से विदाई के क्षणों पर आधारित 9 लेखों की श्रृंखला का अंतिम लेख अपने सहकर्मियों के श्रीचरणों में समर्पित करते हुए हमें अत्यंत प्रसन्नता हो रही है। यह सभी लेख वर्ष 1969 की  अखंड ज्योति पत्रिका पर […]

आत्मा से प्रेम करना ही परमात्म-प्रेम का आधार 

19 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद -आत्मा से प्रेम करना ही परमात्म-प्रेम का आधार  हम अक्सर कहते हैं जिन प्रेम कियो तिन प्रभु पाओ -तो आइये आज देखते हैं  सिख धर्म के सुप्रसिद्ध दशम ग्रन्थ की इन पंक्तियों को कैसे आत्मसात किया जाता है। अत्यंत गूढ़ ज्ञान से भरपूर Only those who love,realize God. हमारा आज […]

हमने गायत्री माता को वैसे ही प्यार किया जैसे एक छोटा बच्चा अपनी माँ से करता है।

18 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद -हमने गायत्री माता को वैसे ही प्यार किया जैसे एक छोटा बच्चा अपनी माँ से करता है।  आज का ज्ञानप्रसाद आरम्भ करने से पूर्व हम सभी देवतुल्य सहकर्मियों को एक पुनीत कार्य के लिए आमंत्रित कर रहे हैं। सभी जानते हैं कि वसंत का पावन पर्व इस वर्ष 5 फरवरी […]

प्राणतत्व और प्रेमतत्व में क्या अंतर् है ?

17 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – प्राणतत्व और प्रेमतत्व में क्या अंतर् है ? विश्व भर में weekend की छुट्टी के बाद  सोमवार  को एक बार फिर अपने काम पर जाने को Monday Blues की परिभाषा दी गयी है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें हमारा काम पर जाने को मन नहीं करता,सुस्ती और कामचोरी […]

एक उल्लास भरी आकर्षक कथा गाथा का सुखान्त अन्त

15 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद -एक उल्लास भरी  आकर्षक कथा गाथा का सुखान्त अन्त आज का ज्ञानप्रसाद बहुत ही संक्षिप्त,केवल डेढ़ पन्नों का ही है क्योंकि गुरुदेव की मथुरा विदाई का अगला लेख कुछ अलग ही रोमांचकारी  दिव्य सन्देश से परिपूर्ण है और उसे इसके साथ जोड़ना उचित नहीं है। रविवार को अवकाश होने के […]

ढ़ाई  वर्ष बाद हमें  निर्धारित तपश्चर्या  के लिए जाना होगा

14 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – ढ़ाई  वर्ष बाद हमें  निर्धारित तपश्चर्या  के लिए जाना होगा पिछले कुछ दिनों से हम सब 1969 की अखंड ज्योति में  “विदाई की घड़ियां और हमारी व्यथा-वेदना” शीर्षक से प्रकाशित हुए लेखों का अध्यन कर रहे हैं, आपके कमैंट्स (जो communication का अद्भुत साधन हैं) इस तथ्य के साक्षी […]

आत्मीयता शरीर से नहीं, आत्मा से होती है। 

13 जनवरी 2021 का ज्ञानप्रसाद – आत्मीयता शरीर से नहीं, आत्मा से होती है।  परमपूज्य गुरुदेव जब परिजनों के पत्रों के उत्तर देते थे  तो लिखते थे “ प्रिय आत्मीय जन।” कितनी आत्मीयता और अपनत्व है इस शब्द में।  आज के लेख में हम अध्यन करते हुए यह जानने का प्रयास करेंगें कि आत्मीयता का […]

मृत्यु से पहले ही हमारे अंग ज़रूरतमंदों के लिए सुरक्षित कर लिए जाएँ । 

11 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – मृत्यु से पहले ही हमारे अंग ज़रूरतमंदों के लिए सुरक्षित कर लिए जाएँ ।  आज का ज्ञानप्रसाद कल वाले मार्मिक वृतांत का ही अगला भाग है। हम देख रहे हैं कि कैसे-कैसे बड़ी ही कठिनता से परमपूज्य गुरुदेव अपनेआप को परिजनों से बिछड़ने के लिए तैयार कर रहे हैं। […]

कठपुतली तो बेजान उपकरण है, खेल तो बाजीगर की उँगलियाँ करती हैं। 

10 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – कठपुतली तो बेजान उपकरण है, खेल तो बाजीगर की उँगलियाँ करती हैं।  आज के ज्ञानप्रसाद का शीर्षक बहुत ही Philosophical है। मदारी के तमाशे में दर्शक तो कठपुतली  के अभिनय को   देख कर प्रसन्न होते रहते  हैं लेकिन उसे नचाने वाला तो वह Expert  बाज़ीगर है जिसके हाथों […]

युगनिर्माण योजना में परमपूज्य गुरुदेव का मार्गदर्शन

8 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद -युगनिर्माण योजना में परमपूज्य गुरुदेव का मार्गदर्शन आज का ज्ञानप्रसाद आरम्भ  करने से पूर्व हम सभी सहकर्मियों के साथ शेयर कर रहे हैं कि आज आदरणीय मृतुन्जय तिवारी भाई साहिब का शुभ जन्मदिवस है। बिकाश शर्मा बेटे ने सुझाव दिया कि ऑनलाइन ज्ञानरथ की ओर से कुछ विशेष सन्देश होना […]

हमारे सहकर्मी  आद. अरुण वर्मा जी की अनुभूति 

7 जनवरी  2022 का ज्ञानप्रसाद – हमारे सहकर्मी  आद. अरुण वर्मा जी की अनुभूति  आज के ज्ञानप्रसाद में बिना किसी भूमिका के हम अरुण  वर्मा जी की अनुभूति प्रस्तुत कर रहे हैं ,हाँ इतना अवश्य कह सकते हैं कि इस लेख के पढ़ने  के बाद और परिजन भी आगे आयेंगें। शब्द सीमा के कारण  संकल्प […]

सब कुछ कहने के लिए विवश न करें। 

6 जनवरी 2021 का ज्ञानप्रसाद – सब कुछ कहने के लिए विवश न करें।  आज का  ज्ञानप्रसाद आरम्भ करने से पूर्व हम सभी सहकर्मियों से  निवेदन कर रहे हैं कि हमारी बहुत ही समर्पित सहकर्मी आदरणीय विदुषी बंता जी के माता जी की दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की जाए। ज्ञानप्रसाद लिखने के […]

युगतीर्थ शांतिकुंज से रत्नों की भांति प्रचारक निकलते हैं 

5 जनवरी 2021 का ज्ञानप्रसाद -युगतीर्थ शांतिकुंज से रत्नों की भांति प्रचारक निकलते हैं  परमपूज्य गुरुदेव के करकमलों द्वारा लिखित दिव्य अखंड ज्योति के मार्च 1986 अंक पर आधारित लेख का द्वितीय भाग प्रस्तुत करते हुए हमें अत्यंत प्रसन्नता हो रही है कल प्रकाशित हुए प्रथम भाग में हमने गुरुदेव के चरणों में बैठ कर […]

नरक से स्वर्ग में प्रवेश पाना पूरी तरह मनुष्य के हाथों में है

4 जनवरी 2022  का ज्ञानप्रसाद – नरक से स्वर्ग में प्रवेश पाना पूरी तरह मनुष्य के हाथों में है आज का ज्ञानप्रसाद परमपूज्य गुरुदेव के करकमलों द्वारा लिखित दिव्य अखंड ज्योति के मार्च 1986 अंक पर आधारित है।आज हम इसका प्रथम भाग प्रस्तुत कर रहे हैं, कल द्वितीय भाग प्रस्तुत करेंगें। परमपूज्य गुरुदेव के  लेखन […]

आग ईंधन  से नहीं, पानी डालने से बुझेगी।

3 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद -आग ईंधन  से नहीं, पानी डालने से बुझेगी। हीरक जयंती शीर्षक पर  पांच ज्ञानप्रसाद और सूक्ष्मीकरण साधना पर तीन वीडियोस के ज्ञानप्रसाद का अमृतपान करके हमारे सहकर्मियों की अंतरात्मा इस कोरोना काल में अवश्य ही तृप्त हुई होगी। यूट्यूब की कुछ समस्या भी आती रही, कमैंट्स एवं और साधनों से […]

गुरुदेव का वसंत पर्व 1986 का ऐतिहासिक प्रवचन: द्वितीय भाग 

Please go to video section to watch this video .

गुरुदेव का वसंत पर्व 1986 का ऐतिहासिक प्रवचन: प्रथम भाग

To watch the video go to video section.

अपने आत्मीयजनों से विचारों का आदान प्रदान

29 दिसंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद – अपने आत्मीयजनों से विचारों का आदान प्रदान  आज के ज्ञानप्रसाद को आरम्भ करने से पहले हम अपनी व्हाट्सप्प सहकर्मी आदरणीय प्रेमशीला मिश्रा जी के  ह्रदय से आभारी हैं कि उन्होंने हमें स्मरण कराया कि “आज का शुभरात्रि सन्देश  नहीं आया -सब ठीक है भाई जी।” हमने यूट्यूब पर तो […]

मानव शरीर एक सर्वांगपूर्ण  प्रयोगशाला 

28 दिसंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद – मानव शरीर एक सर्वांगपूर्ण  प्रयोगशाला  25 दिसंबर वाले लेख में हमने संक्षिप्त वर्णन किया था कि सूक्ष्मीकरण से 5 शरीरों की शक्ति 3125 गुना हो जाती है। आज हम इसी तथ्य का वैज्ञानिक पक्ष और व्याख्या देखेंगें।अखंड ज्योति  जुलाई 1984 अंक पर आधारित आज के ज्ञानप्रसाद में हम समझने […]

फेसबुक पर बुरी खबरों को ‘पसंद’ (Like) करने का शिष्टाचार। 

हमारी शोक संतप्त  सहकर्मी  विनीता जी को हृदय से अपने दुःख का प्राकट्य  करते हैं और सभी 46 परिजनों का हृदय से धन्यवाद जिन्होंने अपने कमेंट पोस्ट किये। हमने उन्हें मैसेज किया था कि  दीदी  के बारे में कुछ 3-4 लाइन लिख कर भेज दें ताकि हमारे सहकर्मी जान सकें लेकिन काफी प्रतीक्षा के बाद […]

परमपूज्य गुरुदेव की हीरक जयंती -पार्ट 5

25 दिसंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद – परमपूज्य गुरुदेव की हीरक जयंती -पार्ट 5 आज का ज्ञानप्रसाद परमपूज्य गुरुदेव की हीरक जयंती श्रृंखला का पांचवा पार्ट है। यह पार्ट हमें जानबूझ कर छोटा रखना पड़ रहा है क्योंकि जिस कंटेंट को आपके समक्ष प्रस्तुत करने की योजना थी वह इतना specialised है कि उसे समझने के […]

परमपूज्य गुरुदेव की हीरक जयंती -पार्ट 4

24 दिसंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद – परमपूज्य गुरुदेव की हीरक जयंती -पार्ट 4 आज का ज्ञानप्रसाद परमपूज्य गुरुदेव की हीरक जयंती श्रृंखला का चतुर्थ पार्ट है। आज परमपूज्य गुरुदेव हमें अध्यात्म तत्वज्ञान का गणित बता रहे हैं और उन्हें हमसे कुछ शिकायतें भी हैं। हर माता पिता को अपने बच्चों से बहुत बड़ी-बड़ी आशाएं होती […]

गुरुदेव की हीरक जयंती -पार्ट 3 

23 दिसंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद – परमपूज्य गुरुदेव की हीरक जयंती -पार्ट 3  आज का ज्ञानप्रसाद परमपूज्य गुरुदेव की हीरक जयंती श्रृंखला का तृतीय पार्ट है। पूर्व प्रकाशित दोनों लेखों और आने वाले लेखों की तरह आज का लेख भी एक अद्भुत ज्ञान का भंडार है। दुर्भाग्यवश जो सहकर्मी परमपूज्य गुरुदेव के दर्शन से वंचित […]

परमपूज्य गुरुदेव की हीरक जयंती -पार्ट 2

22  दिसंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद – परमपूज्य गुरुदेव की हीरक जयंती -पार्ट 2 आज का ज्ञानप्रसाद परमपूज्य गुरुदेव की हीरक जयंती श्रृंखला का द्वितीय पार्ट है। इस पार्ट में आप पढेंगें कि गुरुदेव ने वरिष्ठ प्रज्ञापुत्रों का विशेषण किन बच्चों के लिए प्रयोग किया, उनके लिए 75वां वर्ष परीक्षा का वर्ष क्यों था और आत्म- […]

परमपूज्य गुरुदेव की हीरक जयंती -पार्ट 1 

21  दिसंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद – परमपूज्य गुरुदेव की हीरक जयंती -पार्ट 1  18 दिसंबर वाले लेख में हमने अपने सहकर्मियों के साथ परमपूज्य गुरुदेव की हीरक जयंती (Diamond Jubilee )का ज़िक्र किया था। उस दिन से लेकर इस लेख के प्रकाशित होने तक हमने अखंड ज्योति के कितने ही लेख पढ़ दिए ,कितनी ही […]

उत्तराखंड में स्थित है “धरती का स्वर्ग” 

18 दिसंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद -उत्तराखंड में स्थित है “धरती का स्वर्ग”  आज के ज्ञानप्रसाद का अमृतपान करने से पहले हम अपने सभी सहकर्मियों का धन्यवाद् करना चाहेगें जिन्होंने कल वाली वीडियो को सम्पूर्ण समर्पण से ग्रहण किया और इंटरनेट /यूट्यूब के कारण जो भी समस्या आती रही उसका यथासंभव निदान करते रहे। सभी ने […]

17 दिसंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद -आदरणीय शुक्ला  बाबा की वीडियो

17 दिसंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद -आदरणीय शुक्ला  बाबा की वीडियो

“मन और उसका निग्रह” लेखों का सारांश  

16  दिसंबर 2021  का ज्ञानप्रसाद- “मन और उसका निग्रह” लेखों का सारांश    “मन और उसका  निग्रह” शीर्षक के अंतर्गत हमने 24 लेखों की श्रृंखला प्रस्तुत की, हमारे सूझवान सहकर्मियों ने हर लेख की तरह इन लेखों के लिए भी  सक्रियता दिखाते  हुए कमैंट्स की बाढ़ लगा दी, आभार व्यक्त करने के लिए हमारे लिए जैसे […]

अध्याय 30. मनोनिग्रह का सबसे सरल और अचूक उपाय  

15  दिसंबर 2021  का ज्ञानप्रसाद – अध्याय 30. मनोनिग्रह का सबसे सरल और अचूक उपाय       आज का ज्ञानप्रसाद केवल दो ही  पन्नों का है। मनोनिग्रह के विषय पर पिछले कई दिनों से हम स्वाध्याय कर रहे हैं। आज का अध्याय इस श्रृंखला का अंतिम अध्याय है जिसमें हम देखेंगें  कि मनोनिग्रह का सबसे अचूक […]

अध्याय  28.मन  के  छल  से  सावधान  29.मन: संयम में ईश्वर-विश्वासी लाभ में रहते हैं।

14  दिसंबर 2021  का ज्ञानप्रसाद – अध्याय  28.मन  के  छल  से  सावधान  29.मन: संयम में ईश्वर-विश्वासी लाभ में रहते हैं। आज का ज्ञानप्रसाद केवल डेढ़ ही पन्नों का है। अध्याय 28 और 29 दोनों हैं  तो  बहुत ही छोटे  लेकिन ज्ञान और सन्देश की दृष्टि से  बहुत ही बड़े हैं। मन को अक्सर कपटी ,छलिया […]

अध्याय  27. अवचेतन मन का संयम भाग  2   

13   दिसंबर 2021  का ज्ञानप्रसाद – अध्याय  27. अवचेतन मन का संयम भाग  2    आज का ज्ञानप्रसाद केवल दो ही पन्नों का अध्याय 27 का द्वितीय भाग है। भाग 1 में हमने  अचेतन (unconscious), चेतन(conscious), अवचेतन( subconscious) एवं अतिचेतन (superconscious) मन को समझने का प्रयास किया। हमारे सूझवान पाठकों ने हर बार की तरह इस […]

अध्याय 27. अवचेतन मन का संयम भाग  1  

 11   दिसंबर 2021  का ज्ञानप्रसाद – अध्याय  27. अवचेतन मन का संयम भाग  1   आज का  ज्ञानप्रसाद भी कल वाले  ज्ञानप्रसाद की तरह कुछ बड़ा  (3 पन्नों का) है।  बहुत ही उत्तम जानकारी और शिक्षा से भरपूर इस लेख को भी अपने अन्तःकरण में उतारते हुए अभ्यास करने की आवश्यकता है।हमारा विश्वास है […]

अध्याय 26. विचार संयम का रहस्य

10  दिसंबर 2021  का ज्ञानप्रसाद – अध्याय 26. विचार संयम का रहस्य   आज का  ज्ञानप्रसाद भी कल वाले  ज्ञानप्रसाद की तरह कुछ बड़ा  (3 पन्नों का) है।  बहुत ही उत्तम जानकारी और शिक्षा से भरपूर इस लेख को भी अपने अन्तःकरण में उतारते हुए अभ्यास करने की आवश्यकता है मनोनिग्रह विषय की  30 लेखों की […]

अध्याय 25. दिशा-केन्द्रित विचार

9 दिसंबर का ज्ञानप्रसाद- अध्याय 25. दिशा-केन्द्रित विचार आज का ज्ञानप्रसाद लगभग चार पन्नों का है ,इसलिए शब्द  सीमा को देखते हुए हम सीधे लेख को ओर ही चलते हैं। ___________________________ 25.दिशा-केन्द्रित विचार  काम, क्रोध, लोभ, या द्वेष अथवा किसी प्रकार के प्रलोभन के अचानक उपस्थित हो जाने से साधक के अध्यात्म- जगत् में जो […]

अध्याय 23. हताशा से बचो और अध्याय 24.आपातकालीन नियन्त्रण व्यवस्थाएँ

8 दिसंबर 2021  का ज्ञानप्रसाद – अध्याय 23. हताशा से बचो और अध्याय 24.आपातकालीन नियन्त्रण व्यवस्थाएँ हमने कल आपके समक्ष अपना रिपोर्ट कार्ड प्रस्तुत किया, भावी  योजनाएं आपके समक्ष रखीं , आपने हमें बहुत ही प्रोत्साहित किया उसके लिए हम आपके ह्रदय से आभारी हैं। हमारे नियमित सहकर्मी आदरणीय JB Paul जी ने इसे पेरेंट्स […]

ऑनलाइन ज्ञानरथ परिवार के समक्ष प्रस्तुत है रिपोर्ट कार्ड 

7 दिसंबर  2021 का ज्ञानप्रसाद – ऑनलाइन ज्ञानरथ परिवार के समक्ष प्रस्तुत है रिपोर्ट कार्ड  लगभग 16 दिन बाद आज हम अपने परिवार के समक्ष सफलताओं ,असफलताओं , भावी योजनाओं का व्यौरा लेकर प्रस्तुत हुए हैं। ऑनलाइन ज्ञानरथ परिवार की समस्त योजनाओं में उस दिव्य सत्ता,जिसे हम सब परमपूज्य गुरुदेव के नाम से जानते हैं, […]

अध्याय 21.कल्पनाशक्ति के सम्यक् उपयोग का महत्व और अध्याय 22. ध्यान का महत्व

6 दिसंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद-  अध्याय 21.कल्पनाशक्ति के सम्यक् उपयोग का महत्व और अध्याय 22. ध्यान का महत्व मनोनिग्रह विषय की 30 लेखों की इस अद्भुत  श्रृंखला में आज प्रस्तुत हैं  अध्याय 21  और 22 । दोनों लेख बहुत ही छोटे हैं -केवल ढाई  पन्नों के।  हर लेख की तरह आज भी हम लिखना चाहेंगें […]

अध्याय 19. सन्तुलित मानव-सम्बन्धों का महत्व और अध्याय 20.मन को स्वस्थ रूप से कार्यों में रत रखना आवश्यक

4  दिसंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद – अध्याय 19. सन्तुलित मानव-सम्बन्धों का महत्व और अध्याय 20.मन को स्वस्थ रूप से कार्यों में रत रखना आवश्यक मनोनिग्रह विषय की 30 लेखों की इस अद्भुत  श्रृंखला में आज प्रस्तुत हैं  अध्याय 19 और 20  अध्याय। दोनों लेख बहुत ही छोटे हैं -केवल 3 पन्नों के।  हर लेख की […]

अध्याय 16 ,17 एवम 18 -मन के बर्ताव ,प्राणायाम और प्रत्याहार।  

3 दिसंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद – अध्याय 16 ,17 एवम 18  मनोनिग्रह लेखों की श्रृंखला के अध्ययन का  आज13वां दिन है।  30 लेखों की इस अद्भुत  श्रृंखला में आज प्रस्तुत हैं  अध्याय 16 ,17 और 18  अध्याय। अध्याय  17 तो केवल 5 ही लाइनों का है, लेकिन हम यही कहेंगें कि शब्दों और लाइनों पर […]

मनोनिग्रह के अध्याय 14 और 15

2 दिसंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद – आदरणीय संध्या बहिन जी के तीन लेखों की कड़ी के बाद हम एक बार फिर  आदरणीय अनिल मिश्रा जी की प्रस्तुति से कनेक्ट होने का प्रयास करेंगें।  30 लेखों की “मन और उसका निग्रह”  श्रृंखला के  अध्याय 14 और  15 में दर्शाये गए अभ्यास प्रयासों का स्वाध्याय करते हुए […]

आदरणीय संध्या कुमार बहिन  जी की ऑनलाइन ज्ञानरथ के प्रति अनुभूति 

1 दिसंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद – आदरणीय संध्या कुमार बहिन  जी की ऑनलाइन ज्ञानरथ के प्रति अनुभूति  आज का ज्ञानप्रसाद आदरणीय बहिन संध्या कुमार जी द्वारा  प्रस्तुत स्वाध्याय -सत्संग की कड़ी का अंतिम भाग है।  आदरणीय शरद पारधी जी, वाईस चांसलर देव संस्कृति  विश्वविद्यालय के संक्षिप्त मार्गदर्शन से आरम्भ होकर संध्या कुमार जी की ऑनलाइन […]

स्वाध्याय-सत्संग के लिए प्रेरित होना 

   आज का ज्ञानप्रसाद आदरणीय संध्या बहिन जी की प्रस्तुति का द्वितीय भाग है। इस भाग में बहुत ही सरल तरीके से स्वाध्याय- सत्संग को समझने ,अपने ह्रदय में उतारने और इसके लाभ की चर्चा की गयी है। तो आइये चलें आज के ज्ञानप्रसाद को अत्यंत श्रद्धापूर्वक ग्रहण करें।  ___________________________________   स्वाध्याय के लिए प्रेरणा […]

बधाइयों से भरा है आज का ज्ञानप्रसाद

29 नवम्बर 2021 का ज्ञानप्रसाद- बधाइयों से भरा है आज का ज्ञानप्रसाद रविवार के अवकाश के उपरांत सप्ताह के प्रथम दिन सोमवार के प्रथम पलों में आप सबका हार्दिक स्वागत है ,अभिनन्दन है। आइये सब पहले सामूहिक तौर से अपने दो सहकर्मियों – एक हमारी सबकी प्रेरणा बिटिया और दूसरे हमारे सबके वरिष्ठ आदरणीय संध्या […]

अध्याय 12-सत्संग  मनोनिग्रह में बड़ा सहायक है ; अध्याय 13-सत्व का शोधन कैसे हो

27  नवम्बर 2021 का ज्ञानप्रसाद-  अध्याय 12 –  सत्संग  मनोनिग्रह में बड़ा सहायक है ;  अध्याय 13 -.सत्व का शोधन कैसे हो आज का ज्ञानप्रसाद स्वामी आत्मानंद जी द्वारा  लिखित पुस्तक “मन और उसका निग्रह” के  अध्याय12 और 13 हैं । मनोनिग्रह की यह अद्भुत श्रृंखला आदरणीय अनिल कुमार मिश्रा जी के स्वाध्याय पर आधारित  […]

अध्याय 11 -मन की बनावट को बदलना -भाग 2  

26 नवम्बर 2021 का ज्ञानप्रसाद–मन की बनावट को बदलना -भाग 2   आज का ज्ञानप्रसाद स्वामी आत्मानंद जी द्वारा  लिखित पुस्तक “मन और उसका निग्रह” के  अध्याय 11 का द्वितीय  भाग है। मनोनिग्रह की यह अद्भुत श्रृंखला आदरणीय अनिल कुमार मिश्रा जी के स्वाध्याय पर आधारित  प्रस्तुति है।ऑनलाइन ज्ञानरथ परिवार  रामकृष्ण मिशन मायावती,अल्मोड़ा के वरिष्ठ सन्यासी […]

अध्याय 11-मन की बनावट को बदलना -भाग 1 

25 नवंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद -मन की बनावट को बदलना -भाग 1  आज का ज्ञानप्रसाद स्वामी आत्मानंद जी द्वारा  लिखित पुस्तक “मन और उसका निग्रह” के  अध्याय 11 का प्रथम भाग है।  अध्याय बड़ा होने के कारण दूसरा भाग कल वाले ज्ञानप्रसाद में शामिल किया जायेगा। मनोनिग्रह की यह अद्भुत श्रृंखला आदरणीय अनिल कुमार मिश्रा […]

अध्याय 9-भीतरी अनुशासन की दो  श्रेणियाँ, अध्याय -10 मन जितना शुद्ध होगा, उसका निग्रह उतना ही सरल होगा   

24 नवम्वर 2021 का ज्ञानप्रसाद – भीतरी अनुशासन की दो  श्रेणियाँ  आज का ज्ञानप्रसाद स्वामी आत्मानंद जी द्वारा  लिखित पुस्तक “मन और उसका निग्रह” के  स्वाध्याय के उपरांत आदरणीय अनिल कुमार मिश्रा  जी की  प्रस्तुति है। आज की  प्रस्तुति में अध्याय 9 और 10 शामिल हैं जो केवल 750 शब्दों के हैं । लेख छोटा […]

मनोनिग्रह  को  अनावश्यक रूप से  कठिन  बनाने  से  कैसे  बचें -अध्याय 6,7 और 8 

23 नवंबर 2021 का ज्ञानप्रसाद – मनोनिग्रह  को  अनावश्यक रूप से  कठिन  बनाने  से  कैसे  बचें  आज का ज्ञानप्रसाद स्वामी आत्मानंद जी द्वारा  लिखित पुस्तक “मन और उसका निग्रह” के  स्वाध्याय के उपरांत आदरणीय अनिल कुमार मिश्रा  जी की  प्रस्तुति है। आज की  प्रस्तुति में  अध्याय 6,7 और 8  को शामिल किया गया  है। ऐसा […]