Author: trikha48


  • गुरुदेव द्वारा किये गए दो जल उपवास की विस्तृत जानकारी 9

    19 मई 2022 का ज्ञानप्रसाद-गुरुदेव द्वारा किये गए दो जल उपवास की विस्तृत जानकारी 9 जल उपवास की चल रही इस दिव्य श्रृंखला का नौंवा एवम अंतिम लेख प्रस्तुत करते हुए मन में एक अद्भुत सी संतुष्टि हो रही है। संतुष्टि इस लिए कि कई तथ्यों का पता तो चला ही है,लेकिन उस गुरु को […]

    Continue reading


  • 1 लाख साधकों द्वारा “स्वर्ण जयंती की विशेष साधना”

    18 मई 2022 का ज्ञानप्रसाद- 1 लाख साधकों द्वारा “स्वर्ण जयंती की विशेष साधना” 17 मई 2022 के ज्ञानप्रसाद में गुरुदेव जल उपवास का उद्देशय और एक विशेष प्रकार की साधना की चर्चा कर रहे थे। गुरुदेव ने इस साधना को “स्वर्ण जयंती की विशेष साधना”- का नाम दिया। हमें भी जानने की जिज्ञासा हुई […]

    Continue reading


  • गुरुदेव द्वारा किये गए दो जल उपवास की विस्तृत जानकारी 8

    17 मई 2022 का ज्ञानप्रसाद- गुरुदेव द्वारा किये गए दो जल उपवास की विस्तृत जानकारी 8 परमपूज्य गुरुदेव द्वारा युगतीर्थ शांतिकुंज में 1976 में सम्पन्न किये गए जल उपवास का यह दूसरा और दोनों जल उपवासों का आठवां पार्ट है। जब हम गुरुदेव के साहित्य के एक एक शब्द का ध्यानपूर्वक अध्ययन करते हैं तो […]

    Continue reading


  • गुरुदेव द्वारा किये गए दो जल उपवास की विस्तृत जानकारी 7

    16 मई 2022 का ज्ञानप्रसाद- गुरुदेव द्वारा किये गए दो जल उपवास की विस्तृत जानकारी 7 आज का लेख आरम्भ करें उससे पहले उन सभी सहकर्मियों  का धन्यवाद् करना चाहते हैं जिन्होंने हमारी  संक्षिप्त यात्रा के लिए शुभकामना सन्देश से ऊर्जा प्रदान कराई। हाँ हम मानते हैं कि हमने व्यस्तता के कारण  अनुशासन की अवहेलना […]

    Continue reading


  • हमारे सहकर्मियों की कलम से – 14 मई 2022

    हमारे सहकर्मियों की कलम से – 14 मई 2022 https://drive.google.com/file/d/143Wv… https://drive.google.com/file/d/1Nbsd… These links are not available because they were google drive links. एक बार फिर शनिवार का दिन आ गया है जब हमें अपने सहकर्मियों की सक्रियता का अनुमान लगाने का सौभाग्य प्राप्त होता है। हम देख ही रहे हैं कि प्रत्येक सहकर्मी किसी न […]

    Continue reading


  • गुरुदेव द्वारा किये गए दो जल उपवास की विस्तृत जानकारी 6 -मध्यांतर  

    12 मई 2022 का ज्ञानप्रसाद- गुरुदेव द्वारा किये गए दो जल उपवास की विस्तृत जानकारी 6 -मध्यांतर   2 मई 2022 को आरम्भ की गयी जल उपवास शृंखला का आज वाला लेख हमें मध्यांतर की ओर  लेकर जा रहा है। बहुत से परिजनों ने इन लेखों को चलचित्र की परिभाषा दी, सुमन लता बहिन जी ने […]

    Continue reading


  • गुरुदेव के जल उपवास से निकल कर आयी मौनी बाबा की कथा। 

    11 मई 2022 का ज्ञानप्रसाद-गुरुदेव के जल उपवास से निकल कर आयी मौनी बाबा की कथा।अगर हम गूगल  सर्च बार में मौनी बाबा शब्द टाइप करें तो भिन्न भिन्न entries दिखाई देंगीं।इसलिए इस बात की चर्चा किये बिना कि तपोभूमि मथुरा में कौन से मौनी बाबा ने तांडव नृत्य से साधकों का मन मोह लिया […]

    Continue reading


  • गुरुदेव द्वारा किये गए दो जल उपवास की विस्तृत जानकारी 5

    10 मई 2022 का ज्ञानप्रसाद-गुरुदेव द्वारा किये गए दो जल उपवास की विस्तृत जानकारी 5  आज के ज्ञानप्रसाद में पढ़ने को बहुत कुछ रोचक  तो मिलेगा ही लेकिन हम यह भी देखेंगें कि  अरणि मंथन से प्रकट की गयी अग्नि ने पंड्या जी की शंका का निवारण तो किया ही, वहां बैठे सभी की आँखें […]

    Continue reading


  • गुरुदेव द्वारा किये गए दो जल उपवास की विस्तृत जानकारी 4

    4 मई 2022 के ज्ञानप्रसाद में  हम सबने दो प्रकार का अग्नियों के बारे में सक्षिप्त सी जानकारी प्राप्त की थी। 5 मई को हमने  सहस्रांशु ब्रह्मयज्ञ का  संक्षिप्त अध्ययन किया, 6 और 7 मई weekend होने के कारण “वीडियो और सहकर्मियों की कलम से” सेगमेंट प्रस्तुत किये गए।  आज ज्ञानप्रसाद लिखने के लिए जब […]

    Continue reading


  • हमारे सहकर्मियों की कलम से – 7 मई 2022 

    सप्ताह का एक दिन पूर्णतया अपने सहकर्मियों का, स्पेशल सेगमेंट का शीर्षक “ हमारे सहकर्मियों की कलम से में परिवर्तित करने का प्रयास किया है ,हो सकता है आपको  यह शीर्षक पसंद आये।  सभी से करबद्ध निवेदन है कि इस सेगमेंट का शीर्षक ढूढ़ने में हमारी सहायता करें ,हम जानते हैं कि आप सब बहुत […]

    Continue reading


  • सहस्रांशु ब्रह्मयज्ञ संक्षिप्त विवरण- गुरुदेव के ही शब्दों में

    परमपूज्य गुरुदेव की प्रेरणा से प्रस्तुत की जा रही जल उपवास की वर्तमान श्रृंखला चेतना की शिखर यात्रा 2 ,3, अखंड ज्योति के कुछ अंक,कुछ वीडियोस की सहायता से संकलित की गयी है। अब तक के तीन लेखों में बहुत कुछ लिखा जा चुका है और आने वाले लेखों में अभी बहुत कुछ लिखना बाकि […]

    Continue reading


  • गुरुदेव द्वारा किये गए दो जल उपवास की विस्तृत जानकारी 3 

    परमपूज्य गुरुदेव के जल उपवास पर आधारित शृंखला का यह तीसरा लेख है। लेख नंबर 2 में हमें यूट्यूब की शब्द सीमा के कारण  परमपूज्य गुरुदेव और गोयन्दका जी  की भेंट वार्ता को बीच में छोड़ना पड़ा था। जहाँ हमने 2 नंबर लेख छोड़ा था आज वहीँ से आगे चलेंगें। गुरुदेव रंग-भेद, जाति  धर्म आदि […]

    Continue reading


  • गुरुदेव द्वारा किये गए दो जल उपवास की विस्तृत जानकारी 2

    परमपूज्य गुरुदेव की दो सुप्रसिद्ध पुस्तकों “चेतना की शिखर यात्रा 2,3” एवं अखंड ज्योति के अंकों पर आधारित श्रृंखला  का यह दूसरा लेख है। प्रथम लेख आप सबने बहुत पसंद किया, शेयर किया और जी भर कर कमेंट किये, ह्रदय की गहराईओं से आभार व्यक्त करते हैं।  मई-जून की भारी  ग्रीष्म ऋतू, तापमान लगभग 40 […]

    Continue reading


  • गुरुदेव द्वारा किये गए दो जल उपवास की विस्तृत जानकारी 1  

    आज से एक नई ज्ञानप्रसाद श्रृंखला का आरम्भ हो रहा है। चेतना की शिखर यात्रा के लगभग 35 पन्नों में समाई  यह लेख श्रृंखला हमें  अपने गुरु के संकल्प और शक्ति के  बारे में ऐसी बातें बताने वाली है जिसे पढ़कर हम सबके रोंगटे खड़े होने की सम्भावना है। यह श्रृंखला 1952 और 1976 के […]

    Continue reading


  • “सप्ताह का एक दिन पूर्णतया अपने सहकर्मियों का” 30  अप्रैल,2022

    “सप्ताह का एक दिन पूर्णतया अपने सहकर्मियों का” यह एपिसोड प्रस्तुत करते हुए हमें बहुत ही प्रसन्नता हो रही कि कितने ही परिजनों ने अपनी contributions भेज कर सप्ताह के इस एकमात्र  स्पेशल सेगमेंट को सफल बनाने में अपना योगदान प्रदान किया। यूट्यूब की शब्द  सीमा के कारण हमें कुछ एक contributions को अगले सप्ताह […]

    Continue reading


  • 1973 की प्राण प्रत्यावर्तन साधना- एक विस्तृत जानकारी-7

    प्राण प्रत्यावर्तन साधना पर आधारित लेख श्रृंखला का यह सातवां और अंतिम लेख है।  परमपूज्य गुरुदेव के सानिध्य में सम्पन्न हुई यह  साधना केवल एक वर्ष (1973 -74 ) ही चली थी।  बाद में यही साधना अन्य नामों से चलती रही और आज 2022 में  5 दिवसीय अन्तः ऊर्जा जागरण सत्र युगतीर्थ शांतिकुंज द्वारा करवाए […]

    Continue reading


  • 1973 की प्राण प्रत्यावर्तन साधना एक विस्तृत जानकारी-6 

    हमारे सहकर्मी जानते हैं कि आजकल हम प्राण प्रत्यावर्तन साधना को जानने का प्रयास कर रहे हैं और इस साधना को समझने के लिए भिन्न भिन्न cross references ,उदाहरण ,अनुभूतियों की सहायता ले रहे हैं।  आज के ज्ञानप्रसाद में कर्नाटक से आये एक साधक,स्वयं प्रकाश जी की अनुभूति प्रस्तुत कर रहे हैं जो कि बहुत […]

    Continue reading


  • 1973 की प्राण प्रत्यावर्तन साधना एक विस्तृत जानकारी-5 

    कल 26 अप्रैल वाले लेख में हमने शांतिकुंज में चल रहे 5 दिवसीय अन्तः ऊर्जा जागरण शिविर के बारे में व्यक्तिगत विचार रखे थे। ज्ञानप्रसाद पोस्ट होने के तुरंत बाद ही कुछ वीडियोस देखीं और इस विषय पर रिसर्च करने पर पता चला कि शांतिकुंज में कुछ एक शिविर इस दिशा में अवश्य चल रहे […]

    Continue reading


  • 1973 की प्राण प्रत्यावर्तन साधना एक विस्तृत जानकारी-4 

    परमपूज्य गुरुदेव के मार्गदर्शन में प्राण प्रत्यावर्तन साधना पर चल रही इस अद्भुत श्रृंखला का चौथा भाग आज हम आपके चरणों में प्रस्तुत कर रहे हैं। हर लेख की तरह इसमें भी अपने सहकर्मियों को बहुत कुछ जानने को मिलेगा। कुछ ऐसे प्रश्न जो हमारे पाठक हमसे फ़ोन करके अक्सर पूछते रहते हैं, हो सकता […]

    Continue reading


  • 1973 की प्राण प्रत्यावर्तन साधना- एक विस्तृत जानकारी-3 

    प्राण प्रत्यावर्तन साधकों के आवास और आहार के बारे में हमने 19 अप्रैल वाले लेख में वर्णन किया और इस साधना के कठिन selection process का विवरण 20 अप्रैल को प्रकाशित किया था।  आज हम Real-Life Experience को समझने का प्रयास करेंगें। आने वाले लेखों में जब साधकों की अनुभतियाँ प्रकाशित करेंगें तो समझने में […]

    Continue reading


  • “सप्ताह का एक दिन पूर्णतया अपने सहकर्मियों का” 23 अप्रैल,2022

    “सप्ताह का एक दिन पूर्णतया अपने सहकर्मियों का” आज का एपिसोड प्रस्तुत करते हमें बहुत ही प्रसन्नता हो रही है। आज के एपिसोड में 7 समर्पित सहकर्मियों का योगदान है जिसके लिए हम उनके सदैव ही आभारी रहेंगें। सभी ने ऑनलाइन ज्ञानरथ को सफल बनाने में अपनी समस्त समर्था दाव पर लगा दी है ,चाहे […]

    Continue reading


  • 1973 की प्राण प्रत्यावर्तन साधना- एक विस्तृत जानकारी-2

    19 अप्रैल के ज्ञानप्रसाद में हमने लिखा था कि- “इस विस्तृत साहित्य की दिव्यता का भंवर हमें डुबो ही न दे, लेकिन हमें अपने गुरु के मार्गदर्शन और समर्पित सहकर्मियों पर अटूट विश्वास है -वह हमें बचा लेंगें।” आज लगभग ऐसी ही situation आती हुई दिख रही थी। 2022, 1996 ,1990 1974 ,1972 की अखंड […]

    Continue reading


  • 1973 की प्राण प्रत्यावर्तन साधना-एक विस्तृत जानकारी-1 

    अगस्त 1996 की अखंड ज्योति पत्रिका में और चेतना की शिखर यात्रा भाग 3 में 1973 की प्राण प्रत्यावर्तन साधना पर कुछ जानकारी दी गयी है। हो सकता है किसी और पुस्तक या ऑडियो-वीडियो में भी इस महत्वपूर्ण साधना का विवरण दिया गया हो लेकिन जहाँ तक हमारी सद्बुद्धि की सीमा है कोई भी विवरण […]

    Continue reading


  • क्या हम उस inflexion point  को अनुभव कर रहे हैं ?

    “अगर हम धर्म की रक्षा करते हैं तो धर्म स्वयं हमारी रक्षा करता है”- मनुस्मृति  परमपूज्य गुरुदेव की दिव्य पुस्तिका “धर्म की सदृढ़ धारणा” पर आधारित श्रृंखला  का पांचवां एवं अंतिम  लेख जिसे आदरणीय संध्या कुमार जी की लेखनी सुशोभित कर रही है आपके समक्ष प्रस्तुत है । हमने अपनी सद्बुद्धि से यत्र-तत्र संशोधन कर […]

    Continue reading


  • सही मायनों में धर्मात्मा कौन है ?

    “अगर आपका ह्रदय किसी दुःखी को देखकर व्यथित होता है तो भगवान कहते हैं मैंने तुम्हे इंसान बना कर कोई गलती नहीं की है”  परमपूज्य गुरुदेव की दिव्य पुस्तिका “धर्म की सदृढ़ धारणा” पर आधारित श्रंखला का चतुर्थ लेख जिसे आदरणीय संध्या कुमार जी की लेखनी सुशोभित कर रही है आपके समक्ष प्रस्तुत है । […]

    Continue reading


  • “सप्ताह का एक दिन पूर्णतया अपने सहकर्मियों का” 16 अप्रैल ,2022

    “सप्ताह का एक दिन पूर्णतया अपने सहकर्मियों का” 16  अप्रैल ,2022 शनिवार की  सम्पूर्ण प्रस्तुति  अपने सहकर्मिओं का होती  है तो हमारा कुछ भी कहना  मुनासिब  नहीं  होता। हम केवल सहकर्मियों द्वारा भेजी गयी contributions को एडिट और compile करके आपके समक्ष प्रस्तुत करते  हैं।   आज के इस स्पेशल सेगमेंट में 3  सहकर्मियों की contributions  […]

    Continue reading


  • धर्म तंत्र की सुरक्षा के लिए भगवान भी दौड़े आते हैं 

    आज के ज्ञानप्रसाद में असुर तत्व और देव तत्व पर चर्चा करेंगें और देखेंगें कि किस प्रकार इन दो opposite मनोवृतियों के बीच संघर्ष चलता रहता है । असुर तत्व का पलड़ा भारी होने से कौन से घातक परिणाम विकसित होते हैं और समाज का विनाश कैसे होता है। इस स्थिति को धर्म कैसे fix […]

    Continue reading


  • अपनी आत्मा का तिरस्कार मत कीजिये 

    परमपूज्य गुरुदेव की दिव्य पुस्तिका “धर्म की सदृढ़ धारणा” पर आधारित श्रंखला का द्वितीय लेख जिसे आदरणीय संध्या कुमार जी की लेखनी सुशोभित कर रही है आपके समक्ष प्रस्तुत है । हमने अपनी सद्बुद्धि (अल्प बुद्धि ?) से यत्र-तत्र संशोधन कर इस लेख को रोचक बनाने का प्रयास किया है, आपके कमैंट्स इस बात के […]

    Continue reading


  • धर्म का मूल तत्व क्या है ?

    धर्म के सम्बन्ध में कल वाले introductory लेख में हमने लिखा था कि हमारे सहकर्मी बहुत ही सूझवान, शिक्षित एवं अनुभवी हैं और हम सब इक्क्ठे होकर इन लेखों को समझने का प्रयास करेंगें। हमने यह भी लिखा था कि जो बात लेखों में नहीं लिखी जा सकती है, कमैंट्स के द्वारा communicate हो जाती […]

    Continue reading


  • धर्म की परिभाषा क्या है ?

    ऑनलाइन ज्ञानरथ परिवार  धार्मिक, निष्ठावान सदस्यों का एक बहुत छोटा सा समूह है जिसका  धर्म में अटूट विश्वास है। आज जब धर्म में आस्था रखने वालों की संख्या दिन प्रतिदिन घटती जा रही है और ऐसे लोग जो किसी भी धर्म में विश्वास नहीं रखते उनकी संख्या में बढ़ोतरी देखी  जा रही है तो धर्म […]

    Continue reading


  • “सप्ताह का एक दिन पूर्णतया अपने सहकर्मियों का” 9  अप्रैल ,2022

    एक बार फिर शनिवार का की दिन आ गया है , वह दिन जो केवल अपने सहकर्मियों का ही होता है।  अपने सूझवान सहकर्मी अपनी  और प्रतिभा को हम सबके समक्ष प्रस्तुत करते हैं। यह प्रयास अभी कुछ दिन पहले ही आरम्भ किया है।  इस प्रयास से जहाँ सहकर्मियों को अपनी प्रतिभा उजागर करने का […]

    Continue reading


  • मन के अंदर जमा हुए कूड़े-कर्कट को निकाल फैंकें 

    परमपूज्य गुरुदेव की लघु पुस्तिका “विवेक की कसौटी” पर आधारित लेखों का यह अंतिम लेख है। इस लेख के अध्यन के उपरांत हमारे परिजनों की विचारधारा में भीषण परिवर्तन आना सुनिश्चित है क्योंकि हम में से बहुत से लोग यह समझ कर चुपचाप बैठ चुके हैं  कि This is end of life. But it  is […]

    Continue reading


  • क्या हम चुपचाप हाँके जाने वाले पशु हैं ?

    आदरणीय संध्या कुमार बहिन जी द्वारा परमपूज्य गुरुदेव की पुस्तिका “विवेक की कसौटी” का गंभीरता से अध्यन करना, अपने अंतर्मन में उतारना, फिर अंतर्मन में उठते विचारों को अपनी लेखनी से व्यक्त करते हुए एक रोचक और ज्ञानवर्धक लेख शृंखला का रूप देना, हमारे द्वारा फिर से अध्यन करना, एडिट करना और अधिक रोचक बनाना, […]

    Continue reading


  • अंधानुकरण सर्वथा अनुचित है 

    हम दोनों भाई बहिन( संध्या कुमार जी ) अपनी-अपनी समर्था और ज्ञान का प्रयोग करते हुए आपके लिए अद्भुत लेखों की श्रृंखला प्रस्तुत कर रहे हैं, आप इन लेखों का अमृतपान भी सम्पूर्ण श्रद्धा और समर्पण से कर रहे हैं ,इसके लिए आपका ह्रदय से आभार व्यक्त करते हैं।  आज के लेख में परमपूज्य गुरुदेव […]

    Continue reading


  • विवेक जागरूकता की कुंजी है

    शनिवार को हमने अपने  सहकर्मियों  को बताया था कि हम परमपूज्य गुरुदेव की दिव्य पुस्तक “विवेक की कसौटी” पर आधारित लेखों की एक श्रृंखला आरम्भ  कर रहे हैं। 24 पन्नों की इस दिव्य पुस्तक में हमारे सहकर्मियों को बहुत कुछ मिलने वाला है। पूज्यवर के साहित्य  की यही तो विशेषता है  कि  छोटी-छोटी पुस्तिकाओं में […]

    Continue reading


  • “सप्ताह का एक दिन पूर्णतया अपने सहकर्मियों का” 2 अप्रैल ,2022

    कमेंट- काउंटर कमेंट प्रथा जिस उद्देश्य से रचना की गयी थी, वह उद्देश्य पूर्ण होता दिखाई दे रहा है, अद्भुत परिणाम दिखा रहा है। अधिक से अधिक परिजन एक दूसरे से परिचित हो रहे हैं, संपर्क बना रहे हैं, परस्पर सहायता कर रहे हैं। सबसे बड़ा परिणाम जो उभर कर सामने आ रहा है वह […]

    Continue reading


  • क्या शांति मंत्र  हमें  शांति दे पाया ?

    Mother Nature -प्रकृति माता  के सीने पर जब प्रहार होता है, उसका बलात्कार होता है तो उसके बच्चों का खून अवश्य ही खौलता है, यही दशा है ऑनलाइन ज्ञानरथ के प्रत्येक सदस्य की। इतनी सुन्दर दिव्य प्रकृति का सर्वनाश होते कैसे देखा जाये। प्रस्तुत है पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रेरित करता हुआ यह दुसरा  और […]

    Continue reading


  • प्रकृति किसी बड़े विनाश के पहले हमें चेतावनी जरूर देती है

    नौ दिन तक हम लगातार धरती के स्वर्ग का अध्यन करते रहे ,उस स्वर्ग की दिव्यता को निहारते रहे, चप्पे चप्पे पर हमने परमपूज्य गुरुदेव के सूक्ष्म संरक्षण में, तपोवनी संत  माँ सुभद्रा के सूक्ष्म  सानिध्य में उत्तराखंड के उस क्षेत्र में अध्यन किया जिसे स्वर्ग का विशेषण दिया गया है। यह विशेषण केवल आधुनिक […]

    Continue reading


  • क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ? -पार्ट 9

    “क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था” शीर्षक से चल रही स्वर्गीय शृंखला का नौंवा और अंतिम पार्ट प्रस्तुत करते हुए हमें जो परम शांति का आभास हो रहा है उसे शब्दों में व्यक्त करने में हम असमर्थ हैं। हम उस क्षेत्र के चप्पे चप्पे का कर भ्रमण चुके हैं जिसे धरती का स्वर्ग कहा […]

    Continue reading


  • क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ? -पार्ट 8

    आज के ज्ञानप्रसाद में  2020 का  एक वीडियो लिंक दे रहे हैं जिसमें आप तपोवन,गोमुख का वातावरण तो देखेंगें ही लेकिन संत सुभद्रा माता जी की कुटिया भी देखेंगें  जिसमें उन्होंने 9 वर्ष तक लगातार घोर  साधना की। 2021 में 90 वर्ष की आयु में  सुभद्रा माता जी तो ब्रह्मलीन हो गयीं लेकिन शैलन्द्र सक्सेना […]

    Continue reading


  • “सप्ताह का एक दिन पूर्णतया अपने सहकर्मियों का” 26 मार्च,2022

    “सप्ताह का एक दिन पूर्णतया अपने सहकर्मियों का” 26 मार्च,2022 कमेंट- काउंटर कमेंट प्रथा जिस उद्देश्य से रचना की गयी थी, वह उद्देश्य पूर्ण होता दिखाई दे रहा है, अद्भुत परिणाम दिखा रहा है। अधिक से अधिक परिजन एक दूसरे से परिचित हो रहे हैं, संपर्क बना रहे हैं, परस्पर सहायता कर रहे हैं। Earth […]

    Continue reading


  • क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ? -पार्ट 7 

    25 मार्च 2022 का ज्ञानप्रसाद -क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ? -पार्ट 7  ‘क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ?’ की आध्यात्मिक शृंखला का सातवां भाग आज प्रकाशित किया जा रहा है। प्रत्येक भाग की तरह इस भाग को भी तैयार करने और रोचक बनाने में हमने अपनी अल्प बुद्धि, परिश्रम और […]

    Continue reading


  • क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ? -पार्ट 6 

    आज का ज्ञानप्रसाद गंगोत्री ग्लेशियर क्षेत्र पर आधारित है। पिछले कई लेखों से हम देख रहे हैं कि धरती के स्वर्ग की यात्रा कितनी आध्यात्मिक और रमणीय है। आज के ज्ञानप्रसाद  में तो ब्रह्मा जी ने नारद जी के समक्ष इस क्षेत्र की उपमा करते हुए certify कर दिया कि – यही भूलोक का स्वर्ग […]

    Continue reading


  • क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ? -पार्ट 5 

    22 मार्च 2022 का ज्ञानप्रसाद -क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ? -पार्ट 5  हम अपने सहकर्मियों का,सहयोगियों का ह्रदय से आभार व्यक्त कर रहे हैं जिनके अथक परिश्रम से “क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ?” की शृंखला सफलता की उन ऊंचाइयों को छू रही है जिसकी हमने  कभी कल्पना भी नहीं […]

    Continue reading


  • क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ? -पार्ट 4

    21 मार्च 2022 का ज्ञानप्रसाद -क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ? -पार्ट 4आज के ज्ञानप्रसाद में हम उत्तराखंड प्रदेश के ऐसे-ऐसे स्थानों की जानकारी प्राप्त करेंगें जिनमें से कुछ एक के तो हमने नाम सुने ही होंगें लेकिन अधिकतर अनसुने ही हैं । दिव्यता की दृष्टि से तो सभी स्थान एक से बढ़कर […]

    Continue reading


  • “सप्ताह का एक दिन पूर्णतया अपने सहकर्मियों का” 20   मार्च ,2022 

    “सप्ताह का एक दिन पूर्णतया अपने सहकर्मियों का” 20   मार्च ,2022  5 मार्च से आरम्भ किये गए इस नवीन प्रयास की तीसरी  कड़ी आपके समक्ष प्रस्तुत है। इस कड़ी में हमें  विदुषी बहिन जी का कमेंट पढ़ने का सौभाग्य प्राप्त होगा  जिसमें उन्होंने एक नवीन जानकरी दी है, आदरणीय अशोक जी (संजना बेटी के […]

    Continue reading


  • क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ? -पार्ट 3 

    18 मार्च 2022 का ज्ञानप्रसाद -क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ? -पार्ट 3  “क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ?” शीर्षक से चल रही श्रृंखला का चतुर्थ पार्ट प्रकाशित करते हुए हमें जिस प्रसन्नता और आंतरिक शांति का आभास हो रहा है उसका शब्दों में वर्णन करना हमारे सामर्थ्य से कहीं परे […]

    Continue reading


  • क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ? -पार्ट 2 

    17 मार्च 2022 का ज्ञानप्रसाद – क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ? -पार्ट 2  ********************** ऑनलाइन ज्ञानरथ के स्तम्भ – शिष्टाचार, आदर, सम्मान, श्रद्धा, समर्पण, सहकारिता, सहानुभूति, सद्भावना, अनुशासन, निष्ठा, विश्वास, आस्था, प्रेम, स्नेह, नियमितता  *****************  “क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ?” शीर्षक से 15 मार्च को आरम्भ हुई दिव्य लेख […]

    Continue reading


  • क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ?- पार्ट 1

    15 मार्च 2022 का ज्ञानप्रसाद – क्या स्वर्ग इस धरती पर ही था ? आज से आरम्भ हो रही लेख श्रृंखला बहुत ही Complex और Controversial है। Complex इस लिए कि ज्ञान इतना विस्तृत है कि उसे छोटे- छोटे लेखों में समेटना असंभव सा ही लगता है। एक एक विषय पर पूरे पूरे ग्रन्थ लिखे […]

    Continue reading


  • ज्योति का ध्यान करना जेन साधना का मुख्य अंग

    14 मार्च 2022 का ज्ञानप्रसाद -ज्योति का ध्यान करना जेन साधना का मुख्य अंग योगबल की साधना से आरम्भ की हुई श्रृंखला का समापन आज हम जापान के तोकुफु मंदिरों में प्रचलित जेन साधना से कर रहे हैं। हमें जानते है कि अधिकतर सहकर्मी ब्रह्ममुहूर्त में हमारे ज्ञानप्रसाद का अमृतपान कर रहे हैं; अध्ययन के […]

    Continue reading


  • सप्ताह का एक दिन पूर्णतया अपने सहकर्मियों का

    “सप्ताह का एक दिन पूर्णतया अपने सहकर्मियों का” 12 मार्च ,2022  5 मार्च से आरम्भ किये गए इस नवीन प्रयास की दूसरी कड़ी आपके समक्ष प्रस्तुत है। इसमें आप अरुण वर्मा जी, बेटी उपासना भरद्वाज, विदुषी बंटा जी, निशा भारद्वाज जी, डा रजत कुमार षड़ंगी, प्रेमशीला मिश्रा जी और मृतुन्जय तिवारी जी के योगदान पर […]

    Continue reading


  • संकल्प शक्ति से प्राप्त की जा सकती है चमत्कारिक क्षमता

    11 मार्च 2022 का ज्ञानप्रसाद – संकल्प शक्ति से प्राप्त की जा सकती है चमत्कारिक क्षमता आज कल चल रही आत्मविश्वास और और आत्मबल की श्रृंखला में हमने देखा कि किस प्रकार केवल चार फुट के ‘मास’ नामक युवक ने अपनी अद्भुत शक्ति का प्रदर्शन करते हुए विश्विख्यात कीर्तिमान स्थापित किये। अब हो हम सबको […]

    Continue reading


  • संकल्प शक्ति एक अद्भुत शक्ति

    शब्द सीमा के कारण आज का ज्ञानप्रसाद बिना किसी opening remarks के और बिना 24 आहुति संकल्प सूची के प्रस्तुत करने में विवश हैं जिसके लिए हम क्षमा प्रार्थी हैं।बीबी सी की virgin births वाली रिपोर्ट भी स्थगित करने को विवश हैं।  ******************************  परमपूज्य गुरुदेव ने आत्मबल,मनोबल,आत्मविश्वास पर बहुत विशाल साहित्य की रचना की है। […]

    Continue reading


  • आंतरिक सुख ही स्थाई सुख है। 

    9 मार्च 2022 का ज्ञानप्रसाद – आंतरिक सुख ही स्थाई सुख है।  आत्मबल,मनोबल, आत्मविश्वास,शरीरबल, योगबल जैसे शब्द पिछले दो दिनों में हम कई बार प्रयोग कर चुके हैं। अपनी अल्प बुद्धि के आधार पर हमने वैज्ञानिक और आध्यात्मिक बैकग्राउंड का सहारा लेते हुए कई बातों को समझने का प्रयास किया क्योंकि यह लेख हमारे व्यक्तिगत […]

    Continue reading


  • कब तक मृगतृष्णा में आत्मबल की आहुति चढ़ाते जायेंगें ?

    8 मार्च 2022 का ज्ञानप्रसाद- कब तक मृगतृष्णा में आत्मबल की आहुति चढ़ाते जायेंगें ? आज का मानव जीवन की अंधी दौड़ में आगे निकलने के लिए कुछ भी करने तो तैयार है ,किसी को भी गिराकर,किसी भी मूल्य पर, सबसे आगे, शिखर पर बैठने के लिए प्रयासरत है। जब वह शिखर प्राप्त नहीं होता […]

    Continue reading


  • क्या ब्रह्माण्ड की अनंत शक्ति से आत्मबल प्राप्त किया जा सकता है ?

    7 मार्च 2022 का ज्ञानप्रसाद – क्या ब्रह्माण्ड की अनंत शक्ति से आत्मबल प्राप्त किया जा सकता है ? आज के 3 दिन पूर्व हमने एक शुभरात्रि  सन्देश भेजा जिसमें  गायत्री मंत्र के “धीमहि” शब्द की महिमा बताई गयी थी। धीमहि  शब्द सन्देश दे रहा था कि  व्यर्थ में धन संचय मत करो, कचरों की […]

    Continue reading


  • 5 मार्च 2022 से आरम्भ होता है एक नवीन प्रयास : 

    5 मार्च 2022 से आरम्भ होता है एक नवीन प्रयास :  “सप्ताह का एक दिन पूर्णतया अपने सहकर्मियों का” – इस सुझाव को बहुत से सहकर्मियों ने सराहा है। इस नवीन प्रयास में हम कुछ प्रतिभाएं और अनुभूतियाँ आपके समक्ष प्रस्तुत कर रहे हैं। सहकर्मियों से निवेदन है कि अगले सप्ताह के लिए अपनी गतिविधियां […]

    Continue reading


  • डेमनिया बाबा की अमर कथा पार्ट 2 

    4 मार्च 2022 का ज्ञानप्रसाद – डेमनिया बाबा की अमर कथा पार्ट 2  आज का ज्ञानप्रसाद बहुत ही संक्षिप्त है- केवल दो ही पन्नों का। डेमनिया बाबा की अमर कथा को आगे बढ़ाते हुए हम देखेंगें कि हमारे परमपूज्य गुरुदेव ने कैसे एक आदिवासी भक्त की झोंपड़ी में ज्वार की मोटी रोटी और मूंग की […]

    Continue reading


  • डैमनिया बाबा की अमरकथा Part 1

    3 मार्च 2022 का ज्ञानप्रसाद “पहले पाँव पखारूं,फिर गंगा पार उतारूं- डैमनिया बाबा की अमरकथा  आज का ज्ञानप्रसाद इतना प्रेरणादायक है कि इसे शब्दों में वर्णन करना लगभग असंभव ही है। यह उन सहकर्मियों के लिए एक राम बाण का काम कर सकता है जिन्हे परमपूज्य गुरुदेव की शक्ति पर ज़री सी भी शंका है। […]

    Continue reading


  • आद. रामबाबू माहेश्वरी जी की अनुभूति- Submitted by Anil Mishra

    2 मार्च 2022 का ज्ञानप्रसाद- आद. रामबाबू माहेश्वरी जी की अनुभूति- Submitted by Anil Mishra अनिल मिश्रा भाई साहिब का ह्रदय से आभार व्यक्त करते हुए आज के ज्ञानप्रसाद में आदरणीय रामबाबू माहेश्वरी जी की एक अद्भुत अनुभूति प्रस्तुत कर रहे। इस अनुभूति में गायत्री तपोभूमि गोण्डा का रिफरेन्स तो है ,लेकिन गूगल सर्च में […]

    Continue reading


  • गायत्री तपोभूमि मथुरा की स्थापना- पार्ट 2

    1 मार्च 2022 का ज्ञानप्रसाद -गायत्री तपोभूमि मथुरा की स्थापना- पार्ट 2 कल वाला ज्ञानप्रसाद प्रकाशित करने के उपरांत आदरणीय अनिल मिश्रा जी ने  व्हाट्सप्प पर कमेंट करते हुए  गायत्री तपोभूमि गोंडा  उत्तर प्रदेश के बारे में जानकारी दी।  यह जानकारी महत्वपूर्ण तो है ही साथ में विस्तृत भी है। हमारा प्रयास था कि इस […]

    Continue reading


  • गायत्री तपोभूमि मथुरा की स्थापना- पार्ट 1 

    28 फ़रवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – गायत्री तपोभूमि मथुरा की स्थापना- पार्ट 1  फ़रवरी माह के अंतिम दिन की ब्रह्मवेला में यह ज्ञानप्रसाद आपके समक्ष प्रस्तुत किया जा रहा है। हमारे सहकर्मी अवश्य ही Monday Blues को त्याग कर ज्ञानप्रसाद के अमृतपान की प्रतीक्षा कर रहे होंगें। हमें अटल विश्वास है कि जहाँ हम अपने […]

    Continue reading


  • ब्रह्मचर्य और इंद्रिय संयम एक दुसरे  के पूरक 

    26  फरवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद-ब्रह्मचर्य और इंद्रिय संयम एक दुसरे  के पूरक  परम पूज्य गुरुदेव द्वारा लिखित लघु पुस्तिका “इन्द्रिय संयम का महत्त्व” पर आधारित आदरणीय संध्या कुमार जी की लेख श्रृंखला का यह छठा एवं अंतिम  पार्ट है। आज के  लेख में ब्रह्मचर्य, सात्विक आहार, सत्कार्य द्वारा प्राप्त किया गया आहार यानि हिंसा शून्य […]

    Continue reading


  • क्रोध, लोभ और मोह का positive पक्ष 

    25 फरवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद- क्रोध, लोभ और मोह का positive पक्ष  परम पूज्य गुरुदेव द्वारा लिखित लघु पुस्तिका “इन्द्रिय संयम का महत्त्व” पर आधारित आदरणीय संध्या कुमार जी की लेख श्रृंखला का यह पांचवां पार्ट है। इस पार्ट में हम उन वृतियों पर चर्चा करेंगें जिन्हे अक्सर negative sense में ही लिया जाता रहा […]

    Continue reading


  • चिंता चिता समान है, कामवृति त्यागने योग्य है ?

    24 फरवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद- चिंता चिता समान है, कामवृति त्यागने योग्य है ? परम पूज्य गुरुदेव द्वारा लिखित लघु पुस्तिका “इन्द्रिय संयम का महत्त्व” पर आधारित आदरणीय संध्या कुमार जी की लेख श्रृंखला का यह चतुर्थ पार्ट है। पिछले लेख में हमने कामवासना और क्रोध वृतियों पर संक्षेप में चर्चा की थी। आज के […]

    Continue reading


  • ऑनलाइन ज्ञानरथ का 500वां ज्ञानप्रसाद 

    22 फ़रवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद -ऑनलाइन ज्ञानरथ का 500वां ज्ञानप्रसाद  परमपूज्य गुरुदेव एवं वंदनीय माता जी के सूक्ष्म संरक्षण में हम ऑनलाइन ज्ञानरथ का 500वां ज्ञानप्रसाद प्रस्तुत कर रहे हैं। इस अद्धभुत ज्ञानरथ के सारथी, हमारे परम पूज्य गुरुदेव और सभी सहकर्मी जिनके अथक परिश्रम और सहयोग से यह ज्ञानरथ अनवरत हांका जा रहा है-उनके […]

    Continue reading


  • बुद्धि रूपी सन्तरी से होता मन रुपी शत्रु परास्त 

    21 फरवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद- बुद्धि रूपी सन्तरी से होता मन रुपी शत्रु परास्त  परम पूज्य गुरुदेव द्वारा लिखित लघु पुस्तिका “इन्द्रिय संयम का महत्त्व” पर आधारित आदरणीय संध्या कुमार जी की लेख श्रृंखला का यह द्वितीय पार्ट है। प्रथम पार्ट में गुरु शिष्य की कथा को बहुत सराहना मिली जिससे प्रेरित होकर आज के […]

    Continue reading


  • मन चंचल क्यों होता है ?

    19 फ़रवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – मन चंचल क्यों होता है ?  आज का ज्ञानप्रसाद एक बहुत ही बेसिक प्रश्न की और केंद्रित है -मन चंचल क्यों होता है ? इस प्रश्न को समझने के लिए हमने एक सरल सी कहानी भी add की है, आशा करते हैं पसंद आएगी। 24 आहुति संकल्प सूची पर […]

    Continue reading


  • इन्द्रियों की प्रकार और संयम की बुनयादी जानकारी 

    18 फरवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – इन्द्रियों की प्रकार और संयम की बुनयादी जानकारी  आज से हम इन्द्रिय संयम पर एक लेख श्रृंखला आरम्भ कर रहे है। इस श्रृंखला में प्रस्तुत किये जाने वाले लेख परम पूज्य गुरुदेव की केवल 25 पन्नों की लघु पुस्तक “इन्द्रिय संयम का महत्व” पर आधारित हैं। हमारी अति समर्पित […]

    Continue reading


  • गायत्री साधना के दिव्य  लाभ- एक आश्चर्यजनक पहेली !!

    17 फ़रवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद -गायत्री साधना के दिव्य  लाभ- एक आश्चर्यजनक पहेली !!  हर  रोज़ जब हम गायत्री मन्त्र की दिव्यता की  बात करते थे, इस महामंत्र की शक्ति की बात करते थे तो मन में एक प्रश्न हिचकोलें लेता था कि “क्या है यह दिव्यता”,  आखिर कैसे आती है यह शक्ति, इस असीमित […]

    Continue reading


  • क्या गायत्री मंत्र से ब्रह्मास्त्र विकसित किया जा सकता है ?

    16 फ़रवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – क्या गायत्री मंत्र से ब्रह्मास्त्र विकसित किया जा सकता है ?  आज का  लेख अति रोचक और बहुचर्चित विषय पर आधारित है। विषय है गायत्री मंत्र की शक्ति। गायत्री मन्त्र की शक्ति पर तो किसी को भी  कोई लेशमात्र  शंका  नहीं है। लेकिन एक बहुत ही बेसिक प्रश्न है […]

    Continue reading


  • ऑनलाइन ज्ञानरथ परिवार के आत्मीयजनों से चर्चा

    15 फ़रवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – ऑनलाइन ज्ञानरथ परिवार के आत्मीयजनों से चर्चा आज यह चर्चा हम 25  दिन के उपरांत का रहे हैं, अगर हमारे हाथ में हो तो हम तो रोज़ ही अपने आत्मीयजनों से बातचीत कर लिया करें लेकिन गुरुकार्य सर्वोपरि है, उससे ऊपर और कुछ भी नहीं है।  हालाँकि कमैंट्स और […]

    Continue reading


  • 14  फ़रवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – गुरुदेव के अध्यात्मिक जन्म दिवस पर हमारी अनुभूतियों के श्रद्धा सुमन-8 

    14  फ़रवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – गुरुदेव के अध्यात्मिक जन्म दिवस पर हमारी अनुभूतियों के श्रद्धा सुमन-8  परमपूज्य गुरुदेव के जन्म दिवस  पर अनुभूतियों की श्रृंखला की अंतिम एवं आठवीं कड़ी लिखते हुए हमें बहुत ही हर्ष हो रहा है। अपने गुरु के प्रति श्रद्धा सुमन अर्पित करने का यह अद्भुत, अनुपम एवं नवीन प्रयास […]

    Continue reading


  • गुरुदेव के अध्यात्मिक जन्म दिवस पर हमारी अनुभूतियों के श्रद्धा सुमन-7 

    12 फ़रवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – गुरुदेव के अध्यात्मिक जन्म दिवस पर हमारी अनुभूतियों के श्रद्धा सुमन-7  हमने कल वाले ज्ञानप्रसाद में संजना बिटिया की ऑनलाइन ज्ञानरथ के प्रति अनुभूति  प्रस्तुत की थी। लेकिन उसे प्रस्तुत करने से पूर्व हमने उसे याद करवाया कि अखंड ज्योति नेत्र हस्पताल, मस्तीचक गायत्री शक्तिपीठ इत्यादि की अनुभूति  जो […]

    Continue reading


  • गुरुदेव के अध्यात्मिक जन्म दिवस पर हमारी अनुभूतियों के श्रद्धा सुमन-6 

    11 फरवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद-गुरुदेव के अध्यात्मिक जन्म दिवस पर हमारी अनुभूतियों के श्रद्धा सुमन-6  आज के ज्ञानप्रसाद में हमारे सहकर्मी एक माँ-बेटी की जोड़ी की अनुभूतियों का अमृतपान कर रहे हैं  । संजना कुमारी जवाहर नवोदय विद्यालय में 12 वीं  कक्षा की  एक होनहार विद्यार्थी हैं।  प्रतिभा की दृष्टि से देखा जाये तो इस […]

    Continue reading


  • गुरुदेव के अध्यात्मिक जन्म दिवस पर हमारी अनुभूतियों के श्रद्धा सुमन-5 

    10 फ़रवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद -गुरुदेव के अध्यात्मिक जन्म दिवस पर हमारी अनुभूतियों के श्रद्धा सुमन-5  हमारे सहकर्मियों की अनुभूतियों का अमृतपान करके अवश्य ही आपका कायाकल्प हो सकता है। आज का ज्ञानप्रसाद अपने दो समर्पित सहकर्मियों, निशा भरद्वाज और सुनीता शर्मा जी की अनुभूतियाँ हैं। निशा बहिन जी को तो यूट्यूब वाले सहकर्मी भलीभांति […]

    Continue reading


  • गुरुदेव के अध्यात्मिक  जन्म दिवस पर हमारी अनुभूतियों के श्रद्धा सुमन-4  

    9  फ़रवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – गुरुदेव के अध्यात्मिक  जन्म दिवस पर हमारी अनुभूतियों के श्रद्धा सुमन-4   हमारे सहकर्मियों की अनुभूतियों का अमृतपान करके अवश्य ही आपका  कायाकल्प हो सकता है। आज का  ज्ञानप्रसाद  परमपूज्य गुरुदेव के अध्यात्मिक जन्म दिवस पर प्रस्तुत की जा रही अनुभूतियों की श्रृंखला का चतुर्थ भाग है। हमारे दो अति […]

    Continue reading


  • गुरुदेव के आध्यात्मिक जन्मदिवस पर अनुभूतियों के श्रद्धा सुमन -3 

    8 फ़रवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – गुरुदेव के आध्यात्मिक जन्मदिवस पर अनुभूतियों के श्रद्धा सुमन -3  आज के ज्ञानप्रसाद में संध्या कुमार बहिन जी की दो अनुभूतियाँ प्रस्तुत हैं। अनुभूतियों की इस शृंखला को प्रस्तुत करने का एकमात्र उदेश्य उन परिजनों को गुरुदेव की शक्ति से अवगत कराना है जो गुरुदेव के बारे में बिल्कुल […]

    Continue reading


  • लता दीदी को ऑनलाइन ज्ञानरथ परिवार की भावपूर्ण श्रद्धांजलि और अनुभूतियों के श्रद्धा सुमन -2 

    7 फ़रवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – लता दीदी को ऑनलाइन ज्ञानरथ परिवार की भावपूर्ण श्रद्धांजलि और अनुभूतियों के श्रद्धा सुमन -2  ऑनलाइन ज्ञानरथ परिवार की ओर लता मंगेशकर जी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए हमने अपनी भावनाएं कल शाम आपके साथ शेयर कीं थीं। उसी समय आदरणीय अनिल मिश्रा जी का व्हाट्सप्प मैसेज आया कि […]

    Continue reading


  • गुरुदेव के आध्यात्मिक जन्म दिवस पर हमारी अनुभतियों के श्रद्धा सुमन-1 

    5 फरवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद -गुरुदेव के आध्यात्मिक जन्म दिवस पर हमारी अनुभतियों के श्रद्धा सुमन-1  18 जनवरी को हमने अपने सहकर्मियों को निवेदन किया कि 5 फ़रवरी 2022 को परमपूज्य गुरुदेव के आध्यात्मिक जन्म दिवस, वसंत पर्व पर अपनी अनुभूतियाँ समर्पित कर गुरुदेव के चरणों में श्रद्धा सुमन अर्पित करें। हमारे निवेदन को भरपूर […]

    Continue reading


  • आने वाले कार्यों के लिए हमारा एक शरीर काफी नहीं। 

    4 फरवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद- आने वाले कार्यों के लिए हमारा एक शरीर काफी नहीं।  **************************  ऑनलाइन ज्ञानरथ के स्तम्भ – शिष्टाचार, आदर, सम्मान, श्रद्धा, समर्पण, सहकारिता, सहानुभूति, सद्भावना, अनुशासन, निष्ठा, विश्वास, आस्था, प्रेम, स्नेह, नियमितता  ***************************** मार्च 1969 की अखंड ज्योति पर आधारित लेखों की श्रृंखला का तीसरा व अंतिम लेख आपके समक्ष प्रस्तुत […]

    Continue reading


  • क्या हम अध्यात्मवाद को भूल कर भौतिकवादी हुए जा रहे हैं ?

    3 फरवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – क्या हम अध्यात्मवाद को भूल कर भौतिकवादी हुए जा रहे हैं ? ******************************* ऑनलाइन ज्ञानरथ के स्तम्भ – शिष्टाचार, आदर, सम्मान, श्रद्धा, समर्पण, सहकारिता, सहानुभूति, सद्भावना, अनुशासन, निष्ठा, विश्वास, आस्था, प्रेम, स्नेह, नियमितता  ********************************  कल वाले ज्ञानप्रसाद में गुरुदेव आने वाले दिनों में सम्पन्न करने वाले पांच महत्वपूर्ण कार्य […]

    Continue reading


  • एक ही घोंसले वाले पाँच पक्षी उड़ कर पाँच प्रयोजन पूरे करते रहे 

    2 फरवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – एक ही घोंसले वाले पाँच पक्षी उड़ कर पाँच प्रयोजन पूरे करते रहे  ******************************* ऑनलाइन ज्ञानरथ के स्तम्भ – शिष्टाचार, आदर, सम्मान, श्रद्धा, समर्पण, सहकारिता, सहानुभूति, सद्भावना, अनुशासन, निष्ठा, विश्वास, आस्था ********************************  आज के ज्ञानप्रसाद में परमपूज्य गुरुदेव हमें उन पांच कार्यों का वर्णन कर रहे हैं जो उन्होंने […]

    Continue reading


  • क्या अपने रचयिता के बगल में बैठना है मानव की सर्वोच्च उपलब्धि ?

    1 फरवरी 2022 का ज्ञान प्रसाद – क्या अपने रचयिता के बगल में बैठना है मानव की सर्वोच्च उपलब्धि ? ******************************* ऑनलाइन ज्ञानरथ के स्तम्भ – शिष्टाचार, आदर, सम्मान, श्रद्धा, समर्पण, सहकारिता, सहानुभूति, सद्भावना, अनुशासन, निष्ठा, विश्वास, आस्था  ******************************** सुप्रसिद्ध वैज्ञानिक निकोला टेस्ला द्वारा 92 वर्ष पूर्व प्रकाशित सम्पादकीय से प्रेरित होकर लिखे गए लेखों […]

    Continue reading


  • इस ब्रह्माण्ड की अनंत शक्ति एवं मानवीय मस्तिष्क

    31 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद -इस ब्रह्माण्ड की अनंत शक्ति एवं मानवीय मस्तिष्क ******************************* ऑनलाइन ज्ञानरथ के स्तम्भ – शिष्टाचार, आदर, सम्मान, श्रद्धा, समर्पण, सहकारिता, सहानुभूति, सद्भावना, अनुशासन, निष्ठा, विश्वास, आस्था  ********************************   आने वाले शनिवार को वसंत पर्व है, परमपूज्य गुरुदेव का आध्यात्मिक जन्म दिवस। आशा करते हैं हमारी तरह आप सब भी ऑनलाइन ज्ञानरथ […]

    Continue reading


  • सफेद कपड़ा पहनकर आये और बेदाग़ चादर लेकर जा रहे हैं।

    29 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – सफेद कपड़ा पहनकर आये और बेदाग़ चादर लेकर जा रहे हैं। ******************************* ऑनलाइन ज्ञानरथ के स्तम्भ – शिष्टाचार, आदर ,सम्मान ,श्रद्धा ,समर्पण ,सहकारिता,सहानुभूति  सद्भावना ,अनुशासन,निष्ठां, विश्वास ,आस्था  ********************************  परम पूज्य गुरुदेव के मथुरा से हरिद्वार प्रस्थान वाले अध्याय का अंत करते हुए हम निवेदन करेंगें कि आप हमारे चैनल […]

    Continue reading


  • हमसे मिल जाने वाली बात को सर्वोपरि महत्व दें।

    28 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – हमसे मिल जाने वाली बात को सर्वोपरि महत्व दें। आज के लेख में हमारे आत्मीयजन देखेंगें कि परमपूज्य गुरुदेव अपनी अंतर्वेदना को शांत करने के लिए किस प्रकार की योजना बनाते हैं, न केवल बनाते हैं ,सुनिश्चित भी करते हैं कि उनके टाइम टेबल के अनुसार यह योजना समय […]

    Continue reading


  • चार -चार दिन के शिविर आयोजन करवाने का उदेश्य

    27 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – चार -चार दिन के शिविर आयोजन करवाने  का उदेश्य परमपूज्य गुरुदेव के तपोभूमि मथुरा से युगतीर्थ शांतिकुंज की ओर प्रस्थान करने पर आधारित हमने कई लेख लिख दिए हैं परन्तु अभी भी इन लेखों का  कोई अंत दिखाई नहीं दे रहा। दिखे भी कैसे – गुरुदेव ने 1969 से […]

    Continue reading


  • परमपूज्य गुरुदेव का अंतिम मिलन के लिए चार दिन का निमंत्रण 

    26 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – परमपूज्य गुरुदेव का अंतिम मिलन के लिए चार दिन का निमंत्रण  आज के ज्ञानप्रसाद में अपने आत्मीयजनों के साथ  करने के लिए  कई बातें हैं; तो आइये ज्ञानप्रसाद का अमृतपान  करने से पूर्व इन बातों की  एक-एक करके संक्षिप्त चर्चा कर लें।  1. ऑनलाइन ज्ञानरथ परिवार की ओर से  […]

    Continue reading


  • स्वामी विवेकानंद जी की जॉन डी रॉकफेलर और निकोला टेस्ला से मुलाकात

    25 जनवरी का ज्ञानप्रसाद : स्वामी विवेकानंद जी की जॉन डी रॉकफेलर और निकोला टेस्ला से मुलाकात आज का ज्ञानप्रसाद आरम्भ करने से पहले हम एक बार फिर से क्षमा प्रार्थी हैं कि शब्द सीमा के कारण आज के  गोल्ड मैडल विजेता आदरणीय सरविन्द जी का गोल्ड मैडल प्रकाशित करने में असमर्थ हैं। आज का […]

    Continue reading


  • स्वामी विवेकानंद और जमशेदजी टाटा की अवस्मरणीय भेंट वार्ता

    24 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – स्वामी विवेकानंद और जमशेदजी टाटा की अवस्मरणीय भेंट वार्ता “आदरणीय अरुण वर्मा जी को गोल्ड मैडल जीतने के लिए हमारी शुभकामना लेकिन गोल्ड मैडल की पिक्चर भेजने में असमर्थ हैं, क्षमा प्रार्थी हैं”   आज का ज्ञानप्रसाद प्रारम्भ करने से पूर्व इस लेख की पृष्ठभूमि बताना बहुत ही आवश्यक है। […]

    Continue reading


  • 22 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद यह वीडियो- To watch this video go to video section.

    22 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद यह वीडियो : 10 मिंट की इस संक्षिप्त वीडियो में युगतीर्थ शांतिकुंज हरिद्वार के वर्तमान (2022)व्यवस्थापक आदरणीय महेंद्र शर्मा जी परमपूज्य गुरुदेव की 1984 की एक सप्ताह की हिमालय यात्रा का विवरण दे रहे हैं। हमारे दर्शक इस यात्रा का विवरण अखंड ज्योति 1985 के जनवरी अंक में भी पढ़ […]

    Continue reading


  • अपने आत्मीयजनों से चर्चा 

    21 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – अपने आत्मीयजनों से चर्चा  आज ज्ञानप्रसाद के लेख को स्थगित करके इच्छा हुई कि अपने आत्मीयजनों से सूक्ष्म तरंगों से जुड़ने का प्रयास किया जाये। कुछ एक आत्मीयजनों  को छोड़ कर जिनके साथ हमारे फ़ोन से सम्बन्ध हैं, अधिकतर को हमने देखा तक नहीं है।  जब कमेंट देखते हैं […]

    Continue reading


  • आत्मा और परमात्मा से सच्चे प्रेम की तीन धाराएं 

    20 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद -आत्मा और परमात्मा से सच्चे प्रेम की तीन धाराएं  परमपूज्य गुरुदेव की मथुरा से विदाई के क्षणों पर आधारित 9 लेखों की श्रृंखला का अंतिम लेख अपने सहकर्मियों के श्रीचरणों में समर्पित करते हुए हमें अत्यंत प्रसन्नता हो रही है। यह सभी लेख वर्ष 1969 की  अखंड ज्योति पत्रिका पर […]

    Continue reading


  • आत्मा से प्रेम करना ही परमात्म-प्रेम का आधार 

    19 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद -आत्मा से प्रेम करना ही परमात्म-प्रेम का आधार  हम अक्सर कहते हैं जिन प्रेम कियो तिन प्रभु पाओ -तो आइये आज देखते हैं  सिख धर्म के सुप्रसिद्ध दशम ग्रन्थ की इन पंक्तियों को कैसे आत्मसात किया जाता है। अत्यंत गूढ़ ज्ञान से भरपूर Only those who love,realize God. हमारा आज […]

    Continue reading


  • हमने गायत्री माता को वैसे ही प्यार किया जैसे एक छोटा बच्चा अपनी माँ से करता है।

    18 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद -हमने गायत्री माता को वैसे ही प्यार किया जैसे एक छोटा बच्चा अपनी माँ से करता है।  आज का ज्ञानप्रसाद आरम्भ करने से पूर्व हम सभी देवतुल्य सहकर्मियों को एक पुनीत कार्य के लिए आमंत्रित कर रहे हैं। सभी जानते हैं कि वसंत का पावन पर्व इस वर्ष 5 फरवरी […]

    Continue reading


  • प्राणतत्व और प्रेमतत्व में क्या अंतर् है ?

    17 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – प्राणतत्व और प्रेमतत्व में क्या अंतर् है ? विश्व भर में weekend की छुट्टी के बाद  सोमवार  को एक बार फिर अपने काम पर जाने को Monday Blues की परिभाषा दी गयी है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें हमारा काम पर जाने को मन नहीं करता,सुस्ती और कामचोरी […]

    Continue reading


  • एक उल्लास भरी आकर्षक कथा गाथा का सुखान्त अन्त

    15 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद -एक उल्लास भरी  आकर्षक कथा गाथा का सुखान्त अन्त आज का ज्ञानप्रसाद बहुत ही संक्षिप्त,केवल डेढ़ पन्नों का ही है क्योंकि गुरुदेव की मथुरा विदाई का अगला लेख कुछ अलग ही रोमांचकारी  दिव्य सन्देश से परिपूर्ण है और उसे इसके साथ जोड़ना उचित नहीं है। रविवार को अवकाश होने के […]

    Continue reading


  • ढ़ाई  वर्ष बाद हमें  निर्धारित तपश्चर्या  के लिए जाना होगा

    14 जनवरी 2022 का ज्ञानप्रसाद – ढ़ाई  वर्ष बाद हमें  निर्धारित तपश्चर्या  के लिए जाना होगा पिछले कुछ दिनों से हम सब 1969 की अखंड ज्योति में  “विदाई की घड़ियां और हमारी व्यथा-वेदना” शीर्षक से प्रकाशित हुए लेखों का अध्यन कर रहे हैं, आपके कमैंट्स (जो communication का अद्भुत साधन हैं) इस तथ्य के साक्षी […]

    Continue reading


  • आत्मीयता शरीर से नहीं, आत्मा से होती है। 

    13 जनवरी 2021 का ज्ञानप्रसाद – आत्मीयता शरीर से नहीं, आत्मा से होती है।  परमपूज्य गुरुदेव जब परिजनों के पत्रों के उत्तर देते थे  तो लिखते थे “ प्रिय आत्मीय जन।” कितनी आत्मीयता और अपनत्व है इस शब्द में।  आज के लेख में हम अध्यन करते हुए यह जानने का प्रयास करेंगें कि आत्मीयता का […]

    Continue reading