Life can be difficult with bad health. Learn how to stay healthy today

परम पूज्य गुरुदेव के जन्म के समय और बाद की  कुछ विलक्षण घटनाएं।

20 सितम्बर 2022 का ज्ञानप्रसाद – चेतना की शिखर यात्रा पार्ट 1, चैप्टर 2  

आज सप्ताह का दूसरा दिन यानि मंगलवार है। यह कोई संयोग ही होगा कि 20 सितम्बर 1911  को पूज्यवर का अवतरण, 20 सितम्बर 1926 को वंदनीय माता जी का अवतरण और 19 सितम्बर 1994 को वंदनीय माता जी का  महाप्रयाण। कल से आरम्भ हुई लेख श्रृंखला परमपूज्य गुरुदेव के चरणों में समर्पित तो है ही, माता जी के समर्पण में एक वीडियो शांतिकुंज से आज ही प्रसारित हुई है जिसे हम इस सप्ताह के वीडियो सेक्शन यानि शुक्रवार को प्रकाशित करेंगें।  

आज का लेख कल वाले लेख का दूसरा पार्ट  है। कल हमने जन्म से पूर्व  गुरुदेव के माता जी की अनुभूतियों का लाइव टेलीकास्ट किया था। आज वाले लेख में जन्म के समय और उसके  बाद वाली विलक्षणताओं  का चित्रण है। आंवलखेड़ा की  पावन भूमि की दिव्य हवेली में जहाँ उस महान आत्मा ने जन्म लिया और और बाल लीलायें कीं,उस माटी को हमारा शत शत  नमन है । यही वह हवेली है जहाँ से हम अपनी लेखनी के माध्यम से  परम पूज्य गुरुदेव के जन्म का आँखों देखा हाल दिखाने  का प्रयास कर रहे हैं। इस हवेली से लाइव टेलीकास्ट आरम्भ करने से पूर्व कल वाले ज्ञानप्रसाद का अमृतपान करने के उपरांत उजागर हुई कुछ चर्चा के परिपेक्ष्य में कुछ कहना चाहेंगें। 

कोकिला बरोट बहिन जी ने लिखा है कि “आप जब गुरुदेव के जीवन के बारे में लिखते हैं तो ऐसा लगता है जैसे गुरुदेव स्वयं ही लिख रहे हों” इसी तरह एक और बहिन लिखती हैं “चेतना की शिखर यात्रा तो पहले कई बार पढ़ी है लेकिन ऑनलाइन ज्ञानरथ में  पढ़ना कुछ और ही बात है” इसी तरह के और भी कई कमेंट आते हैं जो हमारी लेखनी के लिए बहुत ही सम्मानजनक हैं। हम केवल एक ही बात कह सकते हैं “हमारी कहाँ इतनी समर्था कि हम कुछ भी लिख सकें, यह उस दिव्य सत्ता का ही निर्देश है जो हमसे कुछ करवा रही है। अगर आप इन लेखों को न पढ़ें तो हमारा क्या मूल्य रहेगा।” आपका धन्यवाद् करने के लिए शब्द कम पड़ जाते हैं। 

राधा त्रिखा जो हमारी भाभी हैं, अपने बेटे यानि हमारे भतीजे “आलोक” के बारे में बता रही थीं कि उसका जन्म भी पितृ पक्ष में ही हुआ था और उस समय भी कुछ  विलक्षणताएँ अनुभव की गयीं थीं। उसकी दादी जी ( हमारे माता जी ) के अनुसार आलोक का जन्म प्रातः  4:00 बजे हुआ था जब मंदिर में घंटियां बज रही थीं। अभी कुछ समय पूर्व ही यह सारा परिवार आंवलखेड़ा की पावन भूमि में गया था और दोनों बच्चों ने दीक्षा भी ली थी। इससे पहले आलोक अकेले ही जन्म भूमि होकर आ गया था, इसका अर्थ तो यही निकाला जा सकता है कि परम पूज्य गुरुदेव ने शायद उसका भी चयन किसी उद्देश्य के लिए किया हो। आलोक पिछले  कई वर्षों से दिल्ली में कार्यरत है। 

तो आइए करें आज की क्लास का आरम्भ 

********************** 

गुरुदेव का जन्म :

हमारे पूज्यवर का जन्म 20  सितम्बर  1911 आश्विन कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को प्रातः 9  बजे हुआ। पितृपक्ष चल रहा था।  सनातन धर्म की मान्यता के अनुसार इन दिनों में  शरीर छोड़ना और जन्म लेना दोनों ही विलक्षण हैं।  कहते हैं  पितृपक्ष में शरीर छोड़ने वालों की आत्मा सीधे पितृलोक चली जाती हैं अथवा  नया शरीर धारण कर लेती हैं।  उनकी एक -आध सूक्ष्म  वासना शेष रह जाती है  जिसे पूरा करने के लिए वे शरीर धारण करती हैं।   पितृपक्ष में जन्म लेने वाले मानव अपनी वंश -परम्परा के मेधावी पूर्वज होते हैं।   वे अपनी परम्परा को आगे बढ़ाने ,उसे समृद्ध करने ,गौरव बढ़ाने यां पिछले जन्मो में जिन लोगों का उपकार रह गया हो उसे चुकाने के लिए आते हैं।  पितृपक्ष ,जन्मकुंडली और जन्म से पूर्व होने वाली घटनाओं के आधार पर आंवलखेड़ा के पंडितों ने कहा :

” पंडित रूप किशोर शर्मा जी के घर योगी यति आत्मा प्रकट हुई है।  पचपन वर्ष की आयु में उनका सौभाग्य उदित हुआ है। “

शिशु का जन्म घर में ही नहीं ,आस पास के गांवों में भी चर्चा का विषय बन गया। आंवलखेड़ा में उस समय केवल 30 -40  घर  ही थे। गायों का आना , मधुमक्खियों का छत्ते  बनाना  सभी स्थानों पर चरितार्थ होने लगा। जन्म होने पर पंडित जी जिन जिन घरों में कथा कहने  के लिए जाते  थे वहां  से भी लोग आए। गांव वालों का आना तो सहज ही लगा परन्तु गांव में साधु सन्यसियों का आना जाना बढ़ गया।  पहले  कभी इक्का दुक्का ही आते थे परन्तु अब तो चार-पांच सन्यासी प्रतिदिन आने लगे। जिस दिन जन्म हुआ उस दिन 10  बजे तो एक ऊँचा लम्बा तेजस्वी सन्यासी हवेली के बाहर आकर खड़ा हो गया। बच्चे की रुदन सुनकर उसने बच्चे को देखने की इच्छा व्यक्त की।  ताई जी को यह अच्छा नहीं लगा और दिखाने में संकोच हुआ  परन्तु  पंडित जी के समझाने पर मान गयी।  बच्चे को देख कर सन्यासी ने दोनों हाथ ऊपर उठा कर दीर्घायु  होने का आशीर्वाद दिया और वापसी का रुख लिया। 

कोठरी में नया वातावरण :

ताई जी बताया करती थीं कि गुरुदेव के जन्म पर कोठरी में मधुर संगीत गूंजने लगा। मन्त्रों का पाठ और रामायण की धुन सुनाई देती रहती थी। हो सकता है यह ताई जी का आंतरिक अनुभव यां फीलिंग हो ,लेकिन सन्यासियों का सहसा घर के द्वार पर आकर रुके रहना, चुपचाप  खड़े रहना,  प्रसूति गृह को टकटकी लगा कर देखते  रहना,बच्चे की रोने की आवाज़ को सुन कर चले जाना, अवश्य ही  सन्यासियों और गुरुदेव  के बीच प्रगाढ़ सम्बन्ध का संकेत है। 

“अवश्य ही हिमालय से दिव्य ऋषि सत्तायें अपनी नवजात संतान को देखने आयी हैं  ” 

नामकरण संस्कार की विलक्षण घटना  :

बालक 16  दिन का हो गया। सूतक निवारण के उपरांत नामकरण की व्यवस्था की गयी।  सूतक के कारण नवरात्रि की पूजा नहीं हुई थी, हाँ संध्या वंदन और पूजा-पाठ नियमित चलता रहा। नामकरण के लिए विजयदशमी का दिन निश्चित किया गया। गांव के सभी लोग आए, सुबह से लोग आ जा रहे थे।  उस दिन  एक और विलक्षण घटना हुई जिससे ताई जी और पंडित जी दोनों कुछ विचलित हुए। जो भी आया उसने देखा द्वार पर एक सन्यासी खड़ा है ,कुछ देर बाद वहां एक साध्वी भी आ गयी। दोनों में कोई संवाद नहीं हुआ, दोनों कुछ देर अविचल खड़े रहे। जब नामकरण  संस्कार शुरू हुआ तो दोनों अंदर आ गए। ताई जी की गोद में लेटे बच्चे को दोनों अपलक देखते रहे। ताई जी की दृष्टि उन पर पड़ी तो वह सहम गयीं और शिशु को पल्ले से ढकने लगी। सन्यासी साधु महाराज ने कहा 

” रहने दो माई, हमें भी लाल को देख लेने दो, जी भर कर देख लें, अपनी ओर अंगित करते कहा: पता नहीं फिर हम लोग रहें या न रहें “

ताई जी को लगा कि बच्चे के बारे में  कुछ कह रहे हैं। उन्हें गुस्सा आ गया,साध्वी को तो डांट भी दिया था।  ताई जी का गुस्सा थम ही नहीं रहा था। पंडित जी के मुंह से अनायास ही निकल आया, रहने दो “श्रीराम” की माँ, तुम्हारे बच्चे का कोई अनिष्ट नहीं हो सकता ,वह कुशल मंगल ही रहेगा।  पंडित जी का कहना था की सन्यासी और साध्वी कहने लगे-पंडित जी हम चलते हैं लेकिन हमारी एक बात मानना, बच्चे  का  नाम “श्रीराम” ही रखना जो  पिता के मुंह से अपनेआप ही   निकला है। यह प्रभु की इच्छा है। इसके बाद ताई जी कुछ नहीं बोलीं। वह दोनों नामकरण  संस्कार तक ऐसे ही खड़े रहे।  शिशु के नामकरण में पिता और सन्यासियों की अनियोजित सहमति थी। यह चिंतन का विषय है कि क्या  पिता के मुंह से “श्रीराम” निकलना अनायास ही था ?  

एक और घटना: वृद्ध सन्यासी का हवेली के बाहिर खड़े रहना। 

किसी और दिन की बात है कि एक वृद्ध सन्यासी लगभग डेढ़ घंटा हवेली के सामने  खड़े रहे। ताई जी उस सन्यासी को भी देख कर बहुत घबराई थीं और बड़बड़ाती हुई बाहिर निकल गयी थीं।  कातर भाव से उन्होंने कहा – मेरे बच्चे पर नज़र क्यों गड़ाते हो ,इसने आपका  क्या बिगाड़ा है। सन्यासी ने आश्वस्त किया : 

” हम बच्चे का अमंगल करने नहीं करने आए हैं और हम केवल दर्शन करने आए हैं।  ऐसी भावना थी कि हिमालय  से एक सिद्ध आत्मा आपकी गोद में आयी है।  हमें किसी तरह से पता चला तो देखने आ गए।”

 ताई ने सन्यासी का मन रखने के लिए  नन्हे शिशु की एक झलक दिखाई और मुड़ते हुए बोली -अब मैं किसी को अपने लाड़ले को देखने नहीं दूँगी।  इतना कह कर ताई जी अंदर जाकर अपने इष्ट द्वारकाधीश के आगे बैठ गयी और कितनी देर तक रोती रही।  सन्यासियों की बातों से ताई जी के मन में संशय हो रहा था कहीं उनका बेटा भी सन्यासी न बन जाये और  उनसे बिछड़  न जाये।  भक्त( ताई)  ने  भगवान से क्या माँगा यह तो उनका निजी संवाद है परन्तु यह अवश्य माँगा की उनका बेटा कभी भी उनसे दूर  न हो।

इसी तरह समय बीतता चला गया।  बेटे की तोतली वाणी  और हाथ -पांव चलने से माता -पिता बहुत ही प्रसन्न होते। श्रीराम के जन्म  के तीन वर्ष उपरांत परिवार में एक कन्या का जन्म हुआ। नाम रखा गया किरण देवी। थोड़ी देर बाद एक और बहिन आयी ,उसका नाम गुरुदेव के अग्रज नाम ( first  name ) से ही लिया गया और राम देवी नाम दिया गया।  ताई जी बेटे की पूरी तरह से ख्याल  रखतीं  थीं और कभी भी किसी के भरोसे नहीं छोड़ती। बेटियों के जन्म के बाद कुछ समय तो बंटना स्वाभाविक था परन्तु संयुक्त परिवार होने के बावजूद ताई जी पुत्र को केवल पिता के संरक्षण में छोड़ती। 

हमारे पाठकों ने  इस लेख के माध्यम से महसूस कर लिया होगा कि गुरुदेव के बाल्यकाल में कैसी -कैसी विलक्षणताएँ  हुईं और हिमालय से ,ऋषि सत्ताओं से उनका जन्म -जन्मान्तरों का सम्बन्ध है।  

आज का लेख यहीं पर पूर्ण -इतिश्री 

जय गुरुदेव

********************************

आज की 24 आहुति संकल्प सूची : 

Gold medal  winner -Arun Verma  

Total comments -836, 

Total  winners-22  

आज की संकल्प सूची में 20  सहकर्मियों ने संकल्प पूरा किया है। अरुण  जी और सरविन्द भाई साहिब दोनों ही गोल्ड मैडल से सम्मानित किये जाते  हैं।

(1)अशोक तिवारी-35,(2) लक्मण विश्वकर्मा-28,(3)कुसुम त्रिपाठी -27, (4) अरुण वर्मा-45, 27,(5) लता गुप्ता -28,(6) सरविन्द कुमार-41,(7) सुजाता उपाध्याय-28,(8) धीरप सिंह-gaming -24,(9)राजकुमारी कौरव-29,(10 ) सुमन लता-25,(11 )अनुपम सिंह-25,(12)PR -31,(13) वंदेश्वरी साहू-27,(14) रेणु श्रीवास्तव-29,(15)निशा भरद्वाज -42,(16)संध्या कुमार-27,(17) सुधा बर्नवाल-28,(18)पूनम कुमारी-34,(19) प्रेम शीला मिश्रा-30,(20) प्रेरणा कुमारी-26,(21) राधा त्रिखा-26,(22) कोकिला बरोट-26     

सभी को  हमारी व्यक्तिगत एवं परिवार की सामूहिक बधाई।  सभी सहकर्मी अपनी-अपनी समर्था और समय  के अनुसार expectation से ऊपर ही कार्य कर रहे हैं जिन्हें हम हृदय से नमन करते हैं, आभार व्यक्त करते हैं और जीवनपर्यन्त ऋणी रहेंगें। जय गुरुदेव,  धन्यवाद।


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s



%d bloggers like this: