Life can be difficult with bad health. Learn how to stay healthy today

पंडित लीलापत शर्मा जी का बचपन और युवास्था

7 जुलाई 2022  का ज्ञानप्रसाद- पंडित लीलापत शर्मा जी का बचपन और युवास्था 

आज का ज्ञानप्रसाद(लेख) इस सप्ताह का चतुर्थ और अंतिम ज्ञानप्रसाद है। कल का ज्ञानप्रसाद  परम पूज्य गुरुदेव की शिक्षण से भरपूर एक वीडियो होगी जो हमें गुरुदेव के बारे में और भी जानने का अवसर देगी। शनिवार को तो आपका लोकप्रिय “सहकर्मियों की कलम से” स्पेशल सेगेमेंट होगा ही। 

आज के ज्ञानप्रसाद को तैयार करने के लिए जिन कठिनाइओं को पार करना पड़ा उन्हें केवल भावना के स्तर पर ही अनुभव किया जा सकता है। “Gurudev Prophet of the New Era” शीर्षक से 2009 में प्रकाशित हुई पुस्तक ने आज के लेख को लिखने में बहुत ही सहायता प्रदान की है। पंडित लीलापत शर्मा जी द्वारा हिंदी में लिखी पुस्तक का अंग्रेजी अनुवाद पंडित वसंत चौकसी जी ने किया है। अगर हिंदी वाली पुस्तक उपलब्ध होती तो कोई कठिनाई नहीं होनी थी। हिंदी और गुजराती में उपलब्ध “प्रज्ञावतार हमारे गुरुदेव” जो इस अंग्रेजी वाली पुस्तक  के साथ गूगल सर्च में appear होती वह अलग पुस्तक है। इस पुस्तक का लेखक भी अंकित नहीं है। तो इस confusion का निवारण करते हुए हमने अंग्रेजी वाली पुस्तक पर ही केंद्रित होने का निर्णय किया। अंग्रेजी से हिंदी में अनुवाद करना, फिर अनुवाद चेक करना,चेक करने के बाद एडिट करना, और भी कई प्रकार के प्रोसेस के बाद जो  हम प्राप्त कर पाए, वह आप सबके समक्ष है। प्रयास यही है कि कहीं भी कोई confusion न रहे, बाकी आपके कमेंट बताएंगें।         

प्रस्तुत है आज का ज्ञानप्रसाद इस मंगलवेला में :

_________________________________________ 

पंडित लीलाप्रसाद जी के शब्दों में :

मैं 1967 में गायत्री तपोभूमि में आया और मिशन के सदस्यों ने मुझे उस समय से गुरुदेव द्वारा मुझे सौंपी गई जिम्मेदारियों को पूरा करते देखा। इसलिए सभी  मेरी गतिविधियों, उपलब्धियों और कमियों के बारे में जानते हैं। लेकिन जो भी (मेरे जीवन का) अज्ञात है और तपोभूमि आने से पहले का मेरा जीवन है  वह भी गुरुदेव और श्रद्धेय माता जी द्वारा पूजित प्रेम के परिणाम स्वरूप पूरा हुआ है। जब मैं अपने पहले के जीवन को देखता हूं और इसकी सफलताओं और उपलब्धियों को संक्षेप में बताता हूं  तो पाता हूं कि शुरू से ही उनकी कृपा मुझ पर बरसती रही है। अगर मैंने उनकी कृपा प्राप्त नहीं की होती तो सफलता की सीढ़ी पर चढ़ना कभी संभव ही न  होता। तपोभूमि आने से पहले, मैं इतना सफल था कि मेरी सफलता की तुलना बहुत अमीर परिवारों में पैदा हुए सफल लोगों से आसानी से की जा सकती थी। इन उपलब्धियों के साथ-साथ, इस दिव्य दम्पति (गुरुदेव, माता जी) की कृपा से मेरे भीतर का जीवन भी पूरा हुआ है।

जब मैं पीछे मुड़कर देखता हूं, तो पाता हूं कि मेरी परिस्थिति में पैदा हुए व्यक्ति के लिए सामान्य परिस्थितियों में प्रगति करना असंभव ही  होगा। मेरा जन्म भरतपुर राज्य (अब राजस्थान राज्य का एक जिला) में एक साधारण ब्राह्मण परिवार में हुआ था। परिस्थितियाँ वैसे भी अनुकूल नहीं थीं, ऊपर से   भाग्य ने मेरे साथ अजीब सा खेल खेलने का फैसला किया। केवल   डेढ़ वर्ष  की आयु  में  ही मैंने अपनी माँ को  खो दिया और ऐसा बच्चा जो अपनी माँ की गर्मजोशी, प्यार और सुरक्षा को खो देता है उसके लिए केवल भाग्य की ही कल्पना की जा सकती  है। जब मैं लगभग दस वर्ष  का था, मेरे पिताजी  का  भी देहांत हो गया। मेरा कोई भाई, बहन या निकट संबंधी नहीं था  जिनसे सहयोग की अपेक्षा की जा सकती। इस  विशाल दुनिया में मैं बिल्कुल  अकेला था और मुझे खुद के लिए झुकना पड़ा। परिणाम स्वरूप मैंने काम की तलाश शुरू कर दी और लोगों को अपने काम की ईमानदारी के बारे में बताना शुरू कर दिया। आखिरकार यह कला  काम कर गयी  और मुझे एक छोटी सी नौकरी मिल गयी। सुबह से रात तक काम करना लेकिन  काम के बदले वेतन बहुत कम था। घंटे इतने लंबे थे कि मुझे अपना भोजन तैयार करने का भी समय नहीं मिलता था  और स्थानीय बाजार में एक खाने के घर ( paying guest ) पर निर्भर रहना पड़ा। इस प्रकार जीवन धीरे-धीरे शुरू हुआ।

मुझे ब्राह्मण होने का पता था। नौकरी के दौरान इधर-उधर की  भागदौड़ से  कुछ जाने-माने लोगों के बीच आने के दौरान, मुझे कुछ और बातें समझ में आईं। इनमें से एक थी  ब्राह्मण होना। ब्राह्मण को    यज्ञोपवीत  पहनना चाहिए। ब्राह्मण के रूप में उपलब्धि के लिए पहला कदम इस  पवित्र-सूत्र से ही शुरू होता है। जिस प्रकार ज्ञान प्राप्त करने के लिए वर्णमाला सीखना आवश्यक है, उसी प्रकार ब्रह्मत्व के लिए सीढ़ी पर चढ़ना आवश्यक है। 

हम यहाँ ब्राह्मण एक जाति के बारे में नहीं कह रहे हैं।  गुरुदेव ने ब्राह्मण एक उच्च व्यक्तित्व वाले ,अच्छे चाल -चलन वाले व्यक्ति के लिए प्रयोग किया है। 

मन में लगातार एक उथल पुथल सी  रहती थी -ईश्वर के साथ एक होने के लिए ईश्वर के ज्ञान की उपलब्धि,  लेकिन समस्याएं बहुत थीं। उन दिनों पवित्र-संस्कार समारोह के लिए  बहुत सारे उत्सव और खर्च शामिल थे। रिश्तेदारों को आमंत्रित किया जाना था, सभी एकत्रित रिश्तेदारों को एक बार नहीं, बल्कि कई दिनों तक भोजन करवाना  पड़ता था। मैं खुद भी मामूली साधनों से बच रहा था, इसलिए यज्ञोपवीत समारोह के बारे में तो  कल्पना करना भी एक बेकार सी बात लगती  थी, लेकिन मन उत्सुक था, और यह सोच हमेशा झूठ बोलती थी कि अगर मैं द्विज नहीं बन पाया  (यानी दो बार पैदा हुआ या  सूत्र-समारोह) तो जीवन ही बेकार है। इसलिए मैं बहुत परेशान रहता था और भगवान से लगातार प्रार्थना करता था कि वह ही कोई  रास्ता दिखाएं ।

बात लगभग  उन दिनों की है  जब स्वतंत्रता आंदोलन मजबूत हो रहा था और प्रतिभाशाली लोग देश की स्वतंत्रता  की प्राप्ति के लिए संघर्ष कर रहे थे। जगह-जगह से समर्पित लोग स्वतंत्रता-आंदोलन के बीज बोने गए ।  भरतपुर में कोई स्थानीय नेता नहीं था  लेकिन एक बहुत ही विद्वान व्यक्ति, पंडित रेवतीशरण आगरा से वहां आए और स्वतंत्रता आंदोलन के लिए स्थानीय जनता  को जागृत करने का अभियान शुरू किया। पंडित जी धार्मिक क्षेत्र में भी बहुत सम्मानित व्यक्ति थे और वे न केवल भारत के लिए स्वतंत्रता पर, बल्कि धर्म और अध्यात्मवाद पर भी लोगों को व्याख्यान देते थे। इसलिए मैंने सोचा कि मुझे किसी तरह कोशिश करके उससे मिलना चाहिए और उन्हें अपनी समस्याओं के बारे में बताना चाहिए। इसलिए एक दिन मैंने साहस जुटाया, पंडित रेवतीशरण जी से मुलाकात की और उन्हें पवित्र-सूत्र की अपनी इच्छा और समस्याओं के बारे में बताया। मेरी बात सुनने के बाद, पंडित जी कुछ देर चुप रहे, फिर बोले, “कल सुबह धोती पहन कर आना। मैं तुम्हारे लिए पवित्र-सूत्र संस्कार करूँगा। यह सुनकर मेरी खुशी का कोई ठिकाना नहीं था। अगले दिन मैंने  निर्देशानुसार पंडित रेवतीशरण जी के समक्ष स्वयं को प्रस्तुत किया। पंडित जी ने पवित्र संस्कार किया और मुझे गायत्री मंत्र में दीक्षा दी।

गायत्री मंत्र  दीक्षा देने के बाद न केवल उन्होंने मुझे नियमित रूप से गायत्री मंत्र का पाठ करने के बारे में बताया, बल्कि मुझे तीन बातों  को हमेशा अपने दिमाग में रखने और जीवन भर उनका पालन करने के निर्देश दिए। ये इस प्रकार थे: 

1) हमेशा काम करते रहना। उन्होंने कहा “श्रम के बारे में कभी भी शर्मिंदा मत होना। श्रम भगवान है, और हम जितना अधिक काम करते हैं, भगवान्  उतना ही प्रसन्न होते हैं  और हमारे  जीवन को पूरा करते हैं ।

 2) ईमानदार बनो। ईमानदारी सर्वोत्तम नीति है, इसे अपनाने से निश्चित ही सफलता मिलती है । शुरू  में कुछ  नुकसान होता हुआ देखा जाएगा लेकिन वास्तव में यह अपरिचित स्थितियों से उत्पन्न होने वाली कठिनाइयाँ हैं,  कुछ समय बाद यह स्वयं ही  साफ हो जाएँगी  और व्यक्ति को ईमानदारी का फल मिलना शुरू हो जाएगा। 

3) तीसरी बात जो उन्होंने कही  वह थी स्वयं को सुधारते रहना और कहा, ” प्रगति का यही  एकमात्र मार्ग है। यदि आप अपने गुणों में सुधार करते रहते हैं, तो ईमानदारी के साथ आपके श्रम के परिणाम दिन-रात बढ़ते जाएंगे। 

सलाह के सभी तीन टुकड़े समान रूप से महत्वपूर्ण हैं और तीनों पर कार्रवाई की जानी चाहिए। तभी  जीवन पूरा हो जाता है। 

मेरे मन ने  तभी से इन तीनों  निषेधाज्ञाओं को लागू करना शुरू कर दिया। जैसा कि पहले कहा गया है  पंडित रेवतीशरण जी ने भी मुझे नियमित रूप से संध्या-वंदन अनुष्ठान और गायत्री मंत्र का पाठ करने का निर्देश दिया था। उन्होंने मुझे इनकी उचित प्रक्रिया सिखाई और कहा कि मुझे कम से कम 324 बार ( 3 माला प्रतिदिन ) गायत्री मंत्र का पाठ करना चाहिए। उन्होंने यह भी सलाह दी कि गायत्री जप पाठ के समय मुझे अपने मन की आंखों के सामने सूर्य की छवि को सविता देवता के प्रतीक के रूप में और  सदगुण (अच्छे गुणों), सत्कर्म (अच्छे कार्यों) और सद्बुद्धि (अच्छे विचारों) से ग्रहण करना चाहिए।  मैंने उपरोक्त कार्यक्रम को अपनाया। दैनिक प्रार्थनाएं तो  थोड़े ही  समय में समाप्त हो जाती थीं, लेकिन  प्रार्थनाओं में छिपी भावना  सारा  दिन भर मेरे साथ रहती।   मैंने सभी के साथ सद्भाव के साथ घुलने मिलने और सभी के साथ सहयोग करने की नीति को अपनाया। मैं हमेशा सभी के लिए उपलब्ध था, चाहे वह मुझ से बड़ा था या मुझ से छोटा था मैंने किसी को नुकसान नहीं पहुंचाया। इस नीति ने मुझे सभी के लिए प्रेरित किया।

हमारे कार्यालय में एक पंडित जी लेखाकार थे। उन्होंने मेरे प्रति बहुत सद्भावना दिखाई और मुझे पढ़ाई शुरू करने के लिए कहा। मैंने उनसे  कहा कि मैं किसी को नहीं जानता कि मुझे कौन सिखाएगा। उन्होंने कहा कि सुबह -शाम जब भी  तुम्हारे  लिए सुविधाजनक हो , मेरे घर आ सकते हो । वह मुझे प्रतिदिन  एक घंटा  पढ़ाते थे।  मैंने इस अवसर को एक आशीर्वाद माना और पंडित जी के घर  उनके अधीन अध्ययन के लिए नियमित रूप से  जाने लगा । समय से पहले मैं  उनके घर आ जाता था  और वहां छोटे मोटे काम कर देता। उनकी पत्नी मुझे अपना बेटा मानने लगीं और मुझसे कहतीं   कि मैं वहीं भोजन कर लिया करूँ।  पढ़ाई का यह कार्यक्रम जारी रहा। धीरे-धीरे एक ऐसी स्थिति विकसित हुई जिसमें कार्यालय के सभी लोगों ने मुझे उच्च पदों के लिए सर्वसम्मति से सिफारिश की, मुझे एक उच्च पद देने के लिए और अधिकारियों ने भी इसी तरह किया और जितना  मुझे मिल रहा था उससे दो गुना वेतन बढ़ाया। अब सुविधाएं बढ़ीं तो  ज़िम्मेदारियाँ भी बढ़ीं, जिन्हें मैंने पहले जैसी ही ईमानदारी के साथ पूरा किया।

हम अपनी लेखनी को यहीं विराम देने की आज्ञा लेते हैं और कामना करते हैं कि सुबह की मंगल वेला में आँख खुलते ही इस ज्ञानप्रसाद का अमृतपान आपके रोम-रोम में नवीन ऊर्जा का संचार कर दे और यह ऊर्जा आपके दिन को सुखमय बना दे। हर लेख की भांति यह लेख भी बड़े ही ध्यानपूर्वक तैयार किया गया है, फिर भी अगर कोई त्रुटि रह गयी हो तो उसके लिए हम क्षमाप्रार्थी हैं। धन्यवाद् जय गुरुदेव।

To be continued : क्रमशः जारी

*******************

6 जुलाई 2022 की 24 आहुति संकल्प सूची: 

(1 ) संध्या कुमार-28  , (2 ) अरुण वर्मा-28   , (3 )  प्रेरणा कुमारी -24      

चारों  सहकर्मी जो ज्ञानरथ की लाल मशाल हाथ में थामें अग्रसर हुए जा रहे हैं,गोल्ड मैडल विजेता हैं, उन्हें हमारी व्यक्तिगत और परिवार की सामूहिक बधाई। सभी सहकर्मी अपनी-अपनी समर्था और समय के अनुसार expectation से ऊपर ही कार्य कर रहे हैं जिनको हम हृदय से नमन करते हैं, आभार व्यक्त करते हैं और जीवनपर्यन्त ऋणी रहेंगें। धन्यवाद


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s



%d bloggers like this: