सब कुछ कहने के लिए विवश न करें। 

6 जनवरी 2021 का ज्ञानप्रसाद – सब कुछ कहने के लिए विवश न करें। 

आज का  ज्ञानप्रसाद आरम्भ करने से पूर्व हम सभी सहकर्मियों से  निवेदन कर रहे हैं कि हमारी बहुत ही समर्पित सहकर्मी आदरणीय विदुषी बंता जी के माता जी की दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की जाए। ज्ञानप्रसाद लिखने के कुछ समय पूर्व ही विदुषी बहिन जी ने इस  दुःखद समाचार का वर्णन शुभरात्रि सन्देश में रिप्लाई करते हुए किया  था।   भारत में बहुत रात हो चुकी थी इसलिए किसी सहकर्मी ने  कोई रिस्पांस/ रिप्लाई नहीं किया था।  ऑनलाइन ज्ञानरथ का प्रत्येक सदस्य परमपूज्य गुरुदेव एवं माँ गायत्री से प्रार्थना करता है  माता जी की आत्मा को शांति  प्रदान करते अपने दिव्य चरणों में स्थान दें और शोक संतप्त परिवार को यह irreparable loss सहन करने की शक्ति प्रदान करें। इस शोक की घड़ी  में आज की 24 आहुति संकल्प सूची और स्वर्ण पदक  वितरण समारोह कल तक के लिए स्थगित करने की आज्ञा लेते हैं। 

मार्च 1986 के अखंड ज्योति अंक पर आधारित आज का लेख अपनेआप में बहुत ही बड़े प्रश्न लिए हुए है। परमपूज्य गुरुदेव ने एक वर्ष के समयदान -जीवनदान की मांग की, कई तरह के प्रश्न एवं जिज्ञासाएं उठीं।  कितने ही  पत्र आए ,कितने ही प्रश्न पूछे गए , बहुतों के उत्तर  भी दिए गए।  लेकिन बहुतों ने शंकाभरे प्रश्न भी पूछे- सभी हमारे गुरुदेव की भांति तो हो नहीं सकते, जैसे दादा गुरु ने कहा वैसे ही एक समर्पित शिष्य की तरह मानते रहे।  और वह भी एक-दो वर्ष नहीं, आजीवन। इसी समर्पण और श्रद्धा के कारण हम आज उन्हें याद करते  हैं, सम्पूर्ण विश्व में उनका एक विशेष स्थान है,उनकी एक विशिष्ट ख्याति है-समस्त ऑनलाइन ज्ञानरथ परिवार नतमस्तक  है ऐसे गुरु को और उनके चरणों में शीश नवाता है।  

आज का ज्ञानप्रसाद उन परिजनों के लिए बहुत ही विशेष साबित हो सकता है जिन्होंने हमें जीवनदान के सम्बन्ध में बार-बार प्रश्न पूछे हैं। पारिवारिक समस्याओं से जूझ रहे परिजन मिशन के कार्यों में क्या योगदान दे सकते हैं, आप स्वयं अनुमान लगा सकते हैं। हमने ऐसे परिजनों से घण्टों बातचीत भी की,  शांतिकुंज में संपर्क भी करवाए ताकि किसी प्रकार की  शंका न रह जाए। हम निवेदन करेंगें कि इस लेख को बड़े ध्यान से पढ़कर समझने का प्रयास किया जाए कि Selection process कोई आसान नहीं है और जिस प्रकार हर किसी नौकरी में Probation period होता है यहाँ भी वही कार्यप्रणाली है। Very common rule of thumb is-अगर आप किसी भी प्रकार का दान- श्रमदान,समयदान,अंशदान, विवेकदान, ज्ञानदान, जीवनदान इत्यादि  देने में समर्थ हैं  तो युगतीर्थ शांतिकुंज  के बारे  में सोचने का लाभ है नहीं तो —– 

इन्ही शब्दों के साथ प्रस्तुत है आज का ज्ञानप्रसाद।                 

______________

युग परिवर्तन के महान् प्रयोजन में “एक वर्ष के समयदान” की याचना महाकाल ने की है। काम बड़ा और लम्बा भी। किन्तु एक वर्ष की ही माँग क्यों की गयी, जबकि इक्कीसवीं शताब्दी को आने में अभी 15 वर्ष और बाकी हैं और इस अवधि में महान घटनाएं होने वाली हैं। अशुभ से लड़ने और सृजन में जुटने के लिए असंख्यों एक से एक महत्व के काम सामने आने वाले हैं। पूरा जीवनदान कर भी दिया जाय तो भी आवश्यकता और उपयोगिता को देखते हुए वह कम है। फिर विचारणीय है कि बारम्बार एक वर्ष के समयदान की याचना ही क्यों दुहराई जा रही है?

फिर एक वर्ष की शर्त ही क्यों? किस लिए? पिछले वर्षों में भी कितने ही व्यक्तियों ने अपने जीवनदान मिशन के लिए दिए हैं और वे अपनी प्रतिभा का भली प्रकार निर्वाह कर रहे हैं। पूछने पर बताते ही हैं कि जिस प्रकार जीवनदान, कन्यादान आदि को वापस नहीं लिया जाता, उसी प्रकार जीवनदान को भी वापस लेकर प्रतिज्ञा तोड़ने की अपेक्षा और कुछ कर बैठना अच्छा। इसलिए जीवन यदि लोकमंगल के लिए समर्पित किया है तो इसी भूमि में प्राण त्यागेंगे। इसमें हेरा-फेरी करना न हमें शोभा देता है और न इसमें मिशन का एवं  गुरुदेव का गौरव है। हमारी तो प्रत्यक्ष बदनामी है ही, जो सुनेगा वह भी  धिक्कारेगा। इसलिए निश्चय तो निश्चय ही है। इस छोटी-सी आयु में ऐसा कलंक सिर पर लादकर क्यों चलें जिसकी कालिख-कालिमा फिर कभी छूटे ही नहीं।

“अब तक एक सौ से अधिक जीवनदानियों का समुदाय प्राण-पण से अपनी प्रतिज्ञा पर आरुढ़ है तो हमारे ही ऊपर क्यों ऐसी शर्त लगायी जा रही है कि एक ही वर्ष के लिए समय दिया जाय?” 

इसका मोटा उत्तर तो प्रश्नकर्ताओं को यही लिखाया जा रहा है कि 

1.यह दोनों पक्षों के लिये परीक्षा का समय है। आप लोग मिशन को देख लें, भली-भाँति परख लें, साथ ही हमें भी।  

2.साथ ही एक अवसर परखने का हमें भी दें कि आप इस तेज़ धार  तलवार पर चल सकेंगे या नहीं? 

3.अपना चिन्तन, चरित्र और व्यवहार उत्कृष्टता की कसौटी पर खरा सिद्ध कर सकेंगे या नहीं? 

4.बीच में कोई पक्ष अनुत्तीर्ण होता है तो उसके लिए यह छूट रहनी चाहिये कि वापस जाने या भेजने का उपाय अपना लिया जाय। 

5.जीवनदान बहुत बड़ी बात है। यदि वह दूसरों के सम्मुख आदर्श प्रस्तुत कर सकने की स्थिति में बना रह सकता हो तो ही उस अनुदान का गौरव है, अन्यथा मिथ्या वचन देने और उसे वापस लौटाने में किसी का भी गौरव नहीं है।

6.घटिया कदम ओछे लोग ही उठाते हैं। हममें से किसी पक्ष को भी अपनी गणना ओछे लोगों में नहीं करनी चाहिये। इसलिए परीक्षा-काल एक वर्ष की जाँच पड़ताल रखने में ही उत्तम है। बाद में फिर नये सिरे से विचार किया जा सकता है और नया कदम उठाया जा सकता है।

आमतौर से एक वर्ष की बात के सम्बन्ध में सन्देह उठाने वालों के लिए  यही उत्तर लिखाये जा रहे हैं। किन्तु इतने भर से किसी को भी सन्तोष नहीं होता। वे इसके अतिरिक्त और भी कई तरह की कल्पनाएं करते हैं और  दिए हुये उत्तरों को पर्याप्त नहीं मानते। उसके पीछे कोई रहस्य खोजते हैं। मनुष्य का स्वभाव भी है कि हर गम्भीर प्रश्न पर कई प्रकार से सोचे। इसे अनुचित भी नहीं कहा जा सकता।

कितने ही पत्रों में इस संदर्भ में  परमपूज्य गुरुदेव से  कितनी ही बातें पूछी गई हैं। उनमें से कुछ का उल्लेख भी यहाँ किया जा रहा है। कितनों ने ही पूछा है कि 

(1)  क्या आपकी आयु एक वर्ष ही शेष रह गई है  जिसमें उतने ही समय में अपने घोषित संकल्पों को पूरा करना चाहते हैं? 

(2) क्या एक वर्ष बाद हिमालय चले जाने और तपस्वियों की ऊँची बिरादरी में सम्मिलित होने का मन है? 

(3) क्या अगले वर्ष कोई भयावह दुर्घटनाएं तो घटित होने वाली नहीं है? 

(4) क्या एक वर्ष बाद आपको प्रज्ञा अभियान दूसरों के जिम्मे छोड़कर कोई असाधारण उत्तरदायित्व वहन करने की भूमिका तो नहीं निभानी है? 

(5) कहीं माताजी का स्वास्थ्य तो नहीं गड़बड़ा रहा है? 

(6) जिनके मन में इतने दिनों से उन्ट उत्कण्ठाएं उठाई जाती रही हैं, उन्हें ऐसा तो नहीं समझा गया है कि यह समय चुका देने पर फिर उन्हें कभी ऐसा अवसर नहीं मिलेगा? 

(7) युग परिवर्तन के सम्बन्ध में कोई ऐसा घटनाक्रम तो घटित नहीं होने जा रहा जिसकी सुरक्षा के लिए उन्हें अपने पास बुला रहे हों? 

(8) किन्हीं को कोई ऐसा सौभाग्य तो प्रदान करने वाले नहीं हैं, जिन्हें निकटवर्ती लोगों को ही दिया जा सकता हो? भविष्य में ऊँचे उत्तरदायित्वों के साथ जुड़ा हुआ महामानवों जैसा श्रेय तो नहीं मिलने जा रहा है जिसका रहस्य “कुछ विशेष लोगों के कान” में ही कहा जाना हो? 

(9) पात्रता जाँचकर अपनी विशिष्ट क्षमताओं का वितरण विभाजन तो नहीं कर रहे हैं?

ऐसे-ऐसे अनेकों प्रश्न हैं, जिनमें से कितनों का ही उल्लेख अप्रकाशित रहना ही उपयुक्त है। इस प्रकार के रहस्यमय प्रश्नों में से किसी का भी उत्तर “न” या “हाँ”  में नहीं दिया जा सकता। कुछ बातें ऐसी होती हैं जिन्हें स्वीकार कर लिया जाता है। कुछ को अस्वीकार करने में भी हर्ज नहीं होता। पर कुछ बातें ऐसी होती हैं जिनके सम्बन्ध में मौन धारण करना, कुछ न कहना ही उचित है। कई बातें ऐसी होती हैं, जिनके सम्बन्ध में गोपनीयता को रखना ही लगभग सत्य के समतुल्य नीतिकारों ने बतलाया है।

जिन प्रश्नों  की झड़ी इन दिनों लगी हुई है उनसे किसी महत्वपूर्ण रहस्योद्घाटन की आशा नहीं करनी चाहिए। उन्हें इतना ही पर्याप्त समझना चाहिए, जितना कि एक दूसरे की जाँच पड़ताल का हवाला देते हुये कहा गया है।

गुरुदेव लिखते हैं :

हमने अपने भूतकाल की घटनाओं का भी पत्रिका के अंकों में सीमित ही उल्लेख किया है। पूछने पर भी नपा तुला ही वर्णन किया है, जो नहीं प्रकट किया गया वह इसलिए सुरक्षित है कि उसे हमारा शरीर न रहने से पहले न जाना जाय। उपरान्त जो लोग चाहें अपने अनुभव प्रकट कर सकते हैं। यदि इन घटनाओं की चर्चा होती है तो इन्हें प्रत्यक्ष कहने पर सिद्ध पुरुषों की श्रेणी में अपने को प्रख्यात करने की महत्वाकाँक्षा ऑकी जा सकती है।

शासन संचालकों को शपथ दिलाई जाती है, उनमें एक गोपनीयता की भी होती है। हमें भी ऐसा ही वचन अपने मार्गदर्शक को देना पड़ा है कि लोकसेवी ब्राह्मण के रूप में ही अपनी जानकारी सर्वसाधारण को दी जाय। जो अध्यात्म की गरिमा सिद्ध करने के लिए आवश्यक समझा जाय उतना ही प्रकट किया जाय। जो हमारी व्यक्तिगत साधना, तपश्चर्या, सिद्धि, जिम्मेदारी एवं भविष्य में घटित होने वाली घटनाओं से सम्बन्धित है, उन्हें समय से पूर्व वर्णन न किया जाय।

युग परिवर्तन की अवधि में अनेकों घटनाएं घटित होंगी। अनेकों महत्वपूर्ण व्यक्तियों के वर्तमान रुख एवं कार्यक्रम में जमीन-आसमान जैसा अन्तर उत्पन्न होगा। ये बातें अभी से नहीं कही जा सकतीं। रहस्यमयी भविष्यवाणियां  करने के लिए अपनी सिद्धियाँ प्रकट करने के लिए हमें मनाही की गई है, उस प्रतिज्ञा का निश्चय ही पालन किया जाएगा। इसलिए कोई सज्जन वे प्रश्न इस वर्ष के संदर्भ में न पूछे, जो भविष्य के सम्बन्ध में न कहने के लिए हम वचनबद्ध हैं, उन्हें नहीं ही कहेंगे।

अगला लेख – हमारे सहकर्मी अरुण वर्मा जी की अनुभूति 

हर बार की तरह आज भी कामना करते हैं कि प्रातः आँख खोलते ही सूर्य की पहली किरण आपको ऊर्जा प्रदान करे और आपका आने वाला दिन सुखमय हो। धन्यवाद् जय गुरुदेव

Advertisement

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s



%d bloggers like this: