Leave a comment

गुरुदेव और दादा गुरु का मिलन -कैलाश मानसरोवर के रास्ते में

8
सिद्ध पुरष संत कीना राम जी की कथा :
सत्यानंद जी के साथ चर्चा के उपरांत गुरुदेव और प्रतिनिधि कलाप ग्राम से बाहर आ गए और आगे की यात्रा पर निकल पड़े। प्रतिनिधि इस अगम्य हिमालय मार्ग से परिचित दिखते थे। कहीं बहुत ऊंचाई और फिर एक दम उतराई। गौरीशंकर के पास पहुँचते ही सामने बर्फ ही बर्फ दिखाई देने लगी। सामने बर्फ की एक गुफा दिखाई दी। उसमें हर -हर महादेव की ध्वनि आ रही थी । यह ध्वनि किसी के मुंह से निकली जप साधना की ध्वनि नहीं लग रही थी। लग रहा था जैसे कोई स्नान कर रहा हो। गुरुदेव ने हैरानगी से पूछा -इस गुफा के भीतर कोई झरना है क्या ? लगता है कोई तपस्वी स्नान कर रहा हो। प्रतिनिधि कहने लगे – यह तपोनिष्ठ विभूति बाबा कीना राम जी हैं। प्रतक्ष्य जगत से उपराम (recess or break ) होने के उपरांत वह इसी सिद्ध क्षेत्र में रमण कर रहे हैं । बाबा कीना राम जी ने अघोर सम्प्रदाय को जन्म दिया और अघोरचार्य के नाम से प्रसिद्ध हुए। उत्तर प्रदेश के चंदौली ग्राम में 1601 में भाद्रपद कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को कीना राम जी निसंतान दम्पति के घर अवतरित हुए। अघोर सम्प्रदाय में अघोर चतुर्दशी का बहुत महत्व है। तो आईये गुरुदेव की यात्रा को विराम देकर सिद्ध पुरष संत कीना राम जी के बारे में जाने।
400 वर्ष पूर्व उनका जन्म बिल्कुल असाधारण था। जन्म के तीन दिन बाद तक बालक कीना राम ने न माँ का स्तनपान किया और न ही प्रथम रोना रोये। इससे सभी बहुत घबराए। तीसरे दिन तीन तपस्वी साधु ,ब्रह्म ,विष्णु ,महेश के रूप में उनके घर आये और बालक कीना को बांहों में लेकर उनके कान में कुछ फूँक मारी, बच्चे ने एकदम रोना आरम्भ कर दिया। यह देख कर सभी तो अति हर्ष हुआ। इनके बाल्यकाल की कई घटनाएं प्रचलित हैं लेकिन हम सभी का विवरण दें तो गुरुदेव का यात्रा बीच में ही रह जाएगी। अगर पाठक चाहें तो गूगल सर्च करके और जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। उनदिनों बालविवाह तो बहुत ही आम था। केवल 12 वर्ष की आयु में विवाह तो हो गया लेकिन गौना तीन वर्ष उपरांत होना निश्चित हुआ। गौना वाले दिन से एक दिन पूर्व कानीराम जी ने माँ से दूध और भात माँगा। माँ ने मना किया ,कहा दही भात खा लो ,कीना राम जी नहीं माने। माँ को दूध भात ही देना पड़ा। अगले दिन जब गौने के लिए जाने लगे तो समाचार आया कि पत्नी का निधन हो गया है। माँ रोने लगी और कीना राम को कोसते हुए बोली -मैं समझ गयी थी कि कुछ अशुभ होने वाला है ,यात्रा के समय कोई दूध भात खाता है क्या ? कीना राम ने कहा -नहीं माँ मैंने तो दूध भात तुम्हारी बहु के मरने के उपरांत ही खाया था। विश्वास नहीं है तो किसी से पूछ लो। वह तो कल शाम को ही मर गयी थी ,मैंने तो दूध भात रात को खाया है। बात सारे गांव में फैल गयी कि बहु के स्वर्गवास की सूचना कीना राम जी को कैसे पता चला। पुनर्विवाह की बात चली लेकिन उनको तो वैराग्य ही भाता था ,बचपन से ही विरक्त रहते थे ,घर से भाग गए। घुमते -घमाते गाज़ीपुर पहुंचे। इस नगर में रामानुजी सम्प्रदाय के संत शिवराम जी रहते थे। कीनाराम जी ने उनके पास साधना की इच्छा जताई। शिवराम जी मान गए और उन्हें अपने पास रख लिया। गुरु की सेवा और भक्ति भजन उनकी दिनचर्या थी। कुछ समय उपरांत कीना राम जी ने दीक्षा के लिए कहा तो शिवराम जी ने मना कर दिया। कुछ दिन बाद फिर अनुरोध किया तो फिर मना कर दिया। आखिरकार कई दिन साधना के बाद गुरुजी मान ही गए और कहने लगे -आओ गंगा किनारे चलते हैं वहां तुम्हे दीक्षा देंगें। रास्ते में शिवराम जी ने अपना कमंडल ,आसन इत्यादि कीना राम जी को देते हुए कहा -तुम यह सब लेकर गंगा किनारे चलो मैं आता हूँ। गुरुदेव की सामग्री लेकर कीना राम जी जाकर माँ गंगा किनारे बैठ गए। उन्होंने देखा कि माँ गंगा की लहरें उनके पांव को छू रही हैं। उन्होंने आचमन किया और वहां से उठ कर थोड़ा ऊपर जाकर बैठ गए। देखते हैं गंगा वहां पर भी उनके पांव को छूने लगी। यह दृश्य देख कर कीना राम जी हक्के बक्के रह गए। दूर पीछे खड़े संत शिवराम जी ने भी देखा और उन्हें लगा कि कीना राम अवश्य ही असाधारण व्यक्ति हैं। यह एक विलक्षण घटना थी ,स्नान के उपरांत शिवराम जी उन्हें एक मंदिर में ले गए और दीक्षा दी। इसके बाद कीना राम जी प्रचंड साधना में डूब गए और गुरु के प्रेरणा से हिमालय में आ गए।
दादा गुरु से मिलन की घड़ी :
गुरुदेव और प्रतिनिधि साथ -साथ इस बर्फानी प्रदेश में चल रहे थे। गुरुदेव के मन में प्रश्न आया कि पिछली बार तो दादा गुरु नंदनवन में मिल गए थे परन्तु इस बार तो इन घुमावदार पहाड़ों की यात्रा करवा रहे हैं। प्रतिनिधि ने गुरुदेव के मन को भांप लिया। उन्होंने कहा – इस प्रदेश और ऋषि सत्ताओं का परिचय करवाने के लिए ही मुझे नंदनवन से यहाँ तक भेजा है। प्रतिनिधि चुपचाप साथ चल रहे थे । कुछ देर बाद उन्होंने संकेत कर के गुरुदेव को रुकने को कहा और स्वच्छ शिला देख कर उसके ऊपर बैठ जाने को कहा और बिना कुछ कहे दूसरी दिशा में चले गए। कुछ ही मिंट में वापस आये और हाथ में कुछ फल थे। गुरुदेव को देते हुए कहा -ये फल खा लो बहुत देर से कुछ खाया नहीं है ,भूख लगी होगी। उनके याद दिलाते ही गुरुदेव को भूख का अनुभव हुआ। स्मरण हुआ कि कलाप ग्राम पहुँचने से पहले कुछ कंदमूल लिए थे। प्रतिनिधि ने सेब जैसा यह फल देने के बाद कहा -मैं अब विदा लूँगा , दादा गुरु यहाँ से आगे का मार्ग दिखाएंगें।
यह सुनकर मन में एकदम उल्लास फूटा ,उत्सुकता भरा रोमांच हुआ। 30 वर्ष पुराना अनुभव एकदम जाग्रत हो उठा। उस समय प्रतिनिधि ने कहा था कहीं दूर मत जाना। अगर जाना भी पड़े तो केवल एक योजन तक ही जाना। गुरुदेव पिछली यात्रा की स्मृतियों में डूबे हुए थे कि दादा गुरु की पुकार सुनाई दी ,नाम लेकर पुकारा था, साथ ही उठ कर चलने को भी कहा। गुरुदेव मार्गदर्शक सत्ता को देखकर उठ खड़े हुए और पीछे- पीछे चल दिए। गुरुदेव ने सावधान किया कि यहाँ से जो भी शक्तियां अर्जित करेंगें उन्हें अपना प्रभाव बढ़ाने के लिए कभी मत प्रयोग करना। यह केवल उनलोगों के कर्मबंध काटने के लिए होंगीं जिनकी चेतना में दैवी उभार आया है और जो आने वाले दिनों में युग प्रत्यावर्तन की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। इन शक्तियों का उपयोग उनके लिए उन्हें बताये बिना करना है।
दादा गुरु के साथ चलते हुए गुरुदेव को अपना शरीर बिल्कुल निरभार ( weightless ) ,एकदम रुई की तरह लग रहा था। मार्गदर्शक सत्ता का शरीर तो बिल्कुल एक प्रकाश की लौ के रूप जैसे दिखाई दे रही था । गुरुदेव का शरीर भी एक लौ की तरह था पर इसको स्पर्श किया जा सकता था। गुरुदेव ने अपने शरीर को स्पर्श करके चैक भी किया। अगर शरीर हल्का हो तो गुर्त्वाकर्षण ( gravity ) का प्रभाव उतना नहीं पड़ता और अपनी इच्छा से किसी भी वेग से यात्रा की जा सकती है। यही कारण है कि चाँद की सतह पर अंतरिक्ष यात्री उड़ते हुए दिखाई देते हैं। इसी कारण यात्रा बहुत ही सहज हो रही थी। आधे घण्टे में ही 100 मील से अधिक क्षेत्र की यात्रा हो गयी। इस बार तो कुछ- कुछ सिद्ध योगी भी साधना करते हुए दिखे। गुरुदेव के मन में विचार आया कि इस एकांत ,निर्जन स्थान पर साधना क्यों कर रहे हैं। यह लोग संसार में भी तो जाकर साधना कर सकते हैं ,वहां प्रलोभन भी होगा और परीक्षा भी होगी। दादा गुरु ने गुरुदेव की विचार तरंग पकड़ ली। कहा कुछ नहीं ,केवल एक बार दृष्टि भर डाली और गुरुदेव को उत्तर मिल गया। उत्तर आया –
” इन सिद्ध योगियों को अपने लिए साधना की आवश्यकता नहीं है। वे स्वयं तो मोक्ष के द्वार पर पहुँच चुके हैं। जगत कल्याण के लिए यहाँ पर तप अनुष्ठान कर रहे हैं “
हमारे पाठकों को गुरुदेव और दादा गुरुदेव के बीच वायरलेस कनेक्शन का आभास हो गया होगा ,यह आत्मा का संबंध है , अगर हम भी इस तरह का सम्बन्ध बनाना चाहते हैं तो हमें भी गुरुदेव जैसा समर्पण दिखाना पड़ेगा। अगर समर्पण है तो गुरु अपने शिष्य को लेने ठीक उसी प्रकार स्वयं भागते हुए आते है जैसे दादा गुरु 1926 की वसंत को आंवलखेड़ा की उस कोठरी में आए थे।
गुरुदेव ने दादा गुरु को आदरपूर्वक निहारा। दादा गुरु ने गुरुदेव को नीचे बैठने को कहा। गुरुदेव बैठ गए ,दादा गुरु भी सामने बैठ गए। गुरुदेव ने इधर -उधर देखा , कोई उचस्थान न दिखाई दिया ,उन्हें लग रहा था कि दादा गुरु को उन से ऊँचे स्थान पर होना चाहिए। उन्होंने अपने कंधे से अंगवस्त्र उतारा और बिछाते हुए दादा गुरु को उस पर बैठ जाने को कहा। शिष्य का मन रखने के लिए दादा गुरु उस आसन पर बैठ गए लेकिन कहने लगे :
” गुरु और शिष्य में कोई अंतर नहीं है ,केवल कक्षा का ही अंतर होता है। गुरु जिस वृक्ष का पका हुआ फल होता है शिष्य उसी वृक्ष की कच्ची और हरी टहनी है। दोनों एक ही सत्ता के समतुल्य अंग हैं। “
यह उद्भोधन सुनकर गुरुदेव ने कहा ,
” यह वक्तव्य आपकी ओर से आया है ,आप आराध्य हैं आप कह सकते हैं परन्तु मैं तो शिष्य के अधिकार से ही बोल सकता हूँ। मुझे अपने श्रीचरणों में बना रहने दीजिये “
दादा गुरु ने सामने पूर्व दिशा की ओर संकेत किया और गुरुदेव ने जब उस ओर देखा तो सामने घाटी में कई तापस जप ,तप और ध्यान में लगे हुए थे। क्षेत्र में चौबीस यज्ञ कुंड बने थे। उनमें यज्ञधूम्र उठ रहा था, अग्नि शिखाएं उठ रही थीं जैसे कि अभी कुछ समय पूर्व ही साधक अग्निहोत्र करके उठे हों। अग्नि शिखाएं स्वर्मिण आभा लिए हुए थीं। उन पर नील आभा छाई हुई थी। कुछ कुंडों पर अभी भी आहुतियां दी जा रहीं थीं। जप तप करते जो सन्यासी दिखाई दिए उनमें कुछ नए थे। शरीर की अवस्था से उनकी आयु 30 से 80 वर्ष के बीच लगती थी। कुछ सन्यासियों को गुरुदेव पहचानने का प्रयास करने लगे। एक को तो पहचान भी लिया। गुरुदेव ने स्मरण किया ,15 वर्ष पूर्व रामेश्वरम में गायत्री महायज्ञ में गुरुदेव का समर्थन करने आए थे। स्थानीय लोगों का विरोध शांत करने गुरुदेव के पक्ष में लोगों को संगठित करने आए थे। उन्ही के कारण स्थानीय पुरातन -पंथी पंडितों को बाहुबल से हस्तक्षेप करने का साहस नहीं हुआ था। उसने एक दृष्टि गुरुदेव की तरफ देखा और पहचान लिया और अगले ही पल अग्निहोत्र कर्म में लग गया। दादा गुरु ने गुरुदेव की ओर देखा और कहने लगे :
“हाँ हाँ ,यह वही साधक है जिसने रामेश्वरम में तुम्हारी सहायता की थी। तुम अभी और भी संतों को पहचानोगे जो तुम्हारी सहायता करने आयेंगें “
यज्ञ कर रहे कुछ ऋषियों को सहस्र कुंडीय गायत्री महायज्ञ में देखा था। पूर्व दिशा में सूर्य भगवन अपनी स्वर्मिण आभा प्रकट करने लगे और सविता देव बर्फ पर अपनी किरणे बिखेरते हुए क्षितिज पर चढ़ आए। गुरुदेव ने उठकर सविता देव को प्रणाम किया ,गुरुवंदना करते हुए खड़े हो गए। दादा गुरु ने गुरुदेव को अपने पास आकर बैठने का संकेत किया। गुरुदेव बैठ गए तो दादा गुरु ने अपना दाहिना हाथ उठाया और उसका अंगूठा धीरे से भँवों (eyebrows ) के मध्य लगाया और उँगलियाँ बालों में फेरीं। इतना करते ही गुरुदेव की ऑंखें मूंदने लगीं और भीतर कोई और ही जगत दिखाई देने लगा। ऐसा लगा की कोई आकृति उभर रही है जो धीरे धीरे विस्तृत होती जा रही थी और फिर विराट रूप धारण कर लिया। यह आकृति बहुत डरावनी थी लेकिन बहुत ही प्रिय लग रही थी। अगर इस आकृति की तुलना हम अपने आस -पास के जगत के साथ करें तो इसमें सब कुछ दिखाई दे रहा था। लगता था उस दृश्य में अग्नि ,सूर्य ,पृथ्वी ,गृह। नक्षत्र ,अपने आप दृष्टिगोचर हो रहे हैं। ऐसा दृश्य था जैसे कि तीनो लोक इसमें समा गए हों। इस रूप के बाहिर अनेकों ऋषि ,योगी ,देवता ,दानव ,विद्वान और योद्धा हाथ जोड़ कर स्तुति करते खड़े थे। उस विराट स्वरूप को देखते हुए बाहिर से कुछ रूप थर -थर कांपते अंदर जा रहे हैं और कुछ उड़ते हुए दिख रहे हैं। उस स्वरुप का हमारे आस पास के ब्रह्माण्ड की तरह विस्तार हो रहा है ,कहीं कोई अवकाश था ही नहीं। ठीक ब्रह्माण्ड की भांति इस में मधुर ,दिव्य ,आकर्षक ,विकराल,भयावह ,भीषण और अलैकिक सब कुछ था। फिर लगा कि सब कुछ सिमट रहा है , सिकुड़ते -सिकुड़ते सब लुप्त हो गया है ,तिरोहित ( अदृश्य ) हो गया है। तिरोहित होते ही गुरुदेव ने देखा कि दादा गुरु खड़े हैं ,उन्होंने कपाल और शीश से अपना हाथ हटा लिया है। गुरुदेव के पास कोई प्रश्न ,कोई जिज्ञासा नहीं थी ,वह पूर्ण रूप से तृप्त और शांत दिखाई दे रहे थे।
हम यहाँ थोड़ा रुक कर अपने पाठकों की इस विराट स्वरुप की अनुभूति को और परिपक्व करने के लिए बी आर चोपड़ा जी के बहुचर्चित टीवी सीरियल महाभारत में चित्रित किये गए विराट स्वरुप के साथ जोड़ना चाहते हैं। भगवान कृष्ण ने जब अर्जुन को रण भूमि में विराट रूप के दर्शन करवाए थे तो कुछ इस तरह की ही पिक्चर बनी थी। अर्जुन को भी भगवान ने दिव्य चक्षु ( नेत्र ) प्रदान किये थे तभी तो वह दिव्य स्वरुप का आनंद उठा सका था और उसने भी यही कहा था -मैं तृप्त हो गया हूँ। हमने इन अक्षरों के माध्यम से , अपनी लेखनी से चुन -चुन कर अक्षरों का चयन करके आप के लिए ऐसा दृश्य चित्रित करने का प्रयास किया है कि आपको,सभी को भी दिव्यता की अनुभूति हो। जिस तरह दर्शकों ने टीवी सीरियल के उस एपिसोड को बार -बार रिवाइंड कर -कर के विराट स्वरुप का आनंद लिया था ठीक उसी तरह आप इन पंक्तियों को भी बार -बार पढ़ने को बाधित होंगें ऐसा हमारा विश्वास है। और जितनी प्रसन्नता चोपड़ा साहिब को हुई थी उससे कहीं अधिक हम भी अनुभव कर रहे हैं।
आज के लेख को हम यहीं पर विराम देने की अनुमति ले रहे हैं क्योंकि हम चाहते हैं कि कोई भी लेख 3 पृष्ठों से अधिक और 2000 -2500 अक्षरों से अधिक न हो। यह लिमिट हमने अपने पाठकों व्यस्तता को ध्यान में रख कर बनाई है क्योंकि लेखों को केवल पढ़ने का उदेश्य नहीं है ,इनको अपने ह्रदय में उतारने का उदेश्य है। इन लेखों को पढ़ने से आपको ऐसे आनंद की अनुभूति होनी चाहिए कि आप उस छोटे से बच्चे की भांति अपनी प्रसन्नता भाग -भाग कर सभी को वर्णन करें जब उसे 100 में से 100 अंक प्राप्त होते हैं। ऐसा होना चाहिए आपका संकल्प और समर्पण।
जय गुरुदेव To be continued .

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: